गर्मी में बीच रास्ते खराब हो सकती है आपकी बाइक, अगर कूलेंट और एयर फिल्टर की जांच समय पर न हो

गर्मी का मौसम शुरू हो चुका है और धीरे-धीरे तापमान बढ़ेगा ही, जो लोग बाइक से सफर करते हैं उनके लिए भी यह जरूरी हो जाता है कि वो अपनी बाइक की भी देखभाल जरूर करें क्योंकि गर्मी में बाइक के ब्रेक डाउन होने के चांस सबसे ज्यादा बढ़ जाते हैं। आजकल तो लोग बाइक से लॉन्ग राइड पर निकल जाते हैं। लेकिन बाइक की राइड करते समय अक्सर लोग इसकी सर्विस पर ध्यान नहीं दे पाते और जिसकी वजह से काफी ऐसे लोग हैं जो सफ़र के दौरान बाइक ब्रेक डाउन का शिकार हो जाते हैं। ऐसे में हम आपको बता रहे हैं कि कुछ जरूरी बातों पर ध्यान दिया जाए तो आपकी बाइक बीच रास्ते में कभी ब्रेक डाउन नहीं होगी।

एयर फिल्टर समय पर बदल लें

एयर फिल्टर अगर साफ़ हो तो इंजन अपना काम बखूबी करता है, और अगर यह गंदा है तो इंजन कमजोर पड़ने लगता है। इसलिए बेहतर परफॉरमेंस के लिए एयर फिल्टर को साफ रखें। हर 1500 किलोमीटर से 2000 किलोमीटर पर एयर फिल्टर बदल लेना चाहिए। एयर फिल्टर बाइक की सीट के नीचे लगा होता है, जिसे आसानी से बदला जा सकता है।

सही समय पर कूलेंट बदलें

आजकल जितनी भी हाई परफॉरमेंस हैवी इंजन वाली बाइक्स आ रही हैं उनमें कूलेंट का इस्तेमाल किया जाता है। कूलेंट इंजन को ठंडा रखने में मदद करता है जिससे आपको मिलती है बेहतर परफॉरमेंस। इसलिए रेगुलर कूलेंट की जांच करते रहना चाहिए। अगर इसकी मात्रा कम हो गई हो तो टॉप-अप कर लेना बेहतर रहता है। ऐसा करने से आपकी बाइक काफी अच्छा परफॉर्म करेगी। अगर आप इन जरूरी बातों का ध्यान रखेंगे तो आपकी बाइक काफी बेहतर परफॉरमेंस देगी और ब्रेक डाउन की भी शिकायत का सामना आपको नहीं करना पड़ेगा। हमेशा सर्विस के दौरान हमेशा ओरिजिनल पार्ट और ऑयल का इस्तेमाल करें, ऐसा करने से आपकी बाइक आपका पूरा साथ देगी।  

टायर्स में एयर प्रेशर सम्स्य पर करें चेक

हफ्ते में दो बार बाइक के दोनों टायर्स में हवा का प्रेशर सही रखें रखना चाहिए, अक्सर देखने में आता है कि लोग अपनी मर्जी से टायर्स में हवा डलवा लेते हैं लेकिन टायर्स में उतनी ही हवा डलवाएं जितना कंपनी ने बताया है। आप चाहें तो टायर्स में नाइट्रोजन का इस्तेमाल कर सकते हैं जोकि काफी बेहतर मानी जाती है। आजकल तो टायर्स में हवा डालने वाली किट आसानी से मार्केट में मिल जाती है आप उसे खरीद कर खुद भी यह काम कर सकते हैं।

इंजन ऑयल टाइम पर बदलें

वैसे तो सर्विस के समय इंजन ऑयल चेंज कर दिया जाता है, लेकिन फिर भी हर 2000 से 5000 किलोमीटर के बाद इंजन ऑयल को जरूर चैक करें, और यदि इंजन ऑयल कम हो गया हो तो टॉपअप करवा लें और यदि ऑयल एक दम कला पड़ गया हो और कम हो गया हो तो नया ऑयल डलवा लें। ध्यान रहे ऑयल चेंज कराने का यह काम किसी एक्सपर्ट से ही कराएं लोकल और सस्ता ऑयल बिलकुल भी अपनी बाइक के इंजन में न डलवायें, इससे काफी बड़ा नुकसान आपको हो सकता है।  

एयर फिल्टर को भी बदलें

एयर फिल्टर अगर साफ़ हो तो इंजन अपना काम बखूबी करता है, और अगर यह गंदा है तो इंजन कमजोर पड़ने लगता है। इसलिए बेहतर परफॉरमेंस के लिए एयर फिल्टर को साफ रखें। हर 1500 किलोमीटर से 2000 किलोमीटर पर एयर फिल्टर बदल लेना चाहिए। एयर फिल्टर बाइक की सीट के नीचे लगा होता है, जिसे आसानी से बदला जा सकता है।

चेन को रेगुलर करें साफ

बाइक की चेन को रेगुलर साफ करें, ऐसा करने से बाइक की परफॉरमेंस बेहतर बनती है और गंदी चेन से बाइक की परफॉरमेंस खराब होती है। कुछ लोग चेन पर ग्रीस का इस्तेमाल करते हैं जोकि गलत है, ऐसा बिलकुल न करें, क्योंकि ऐसा करने से रोटेशन में दिक्कत होती है और पकड़ कमजोर पड़ती है साथ ग्रीस की वजह से गंदी भी जल्दी होती है।