सेकंड हैंड बाइक खरीदने से पहले ध्यान रखें इन बातों का

चाहे वह नई बाइक हो या सेकेंड-हैंड बाइक. बाइक के प्रति बाइक चलाने वाले के प्यार में कोई कमी नहीं आती. पहली बार बाइक का मालिक होना एक विशेष एहसास है. कुछ लोग एक नई बाइक खरीद नहीं सकते हैं लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उन्हें अपने सपने को छोड़ देना चाहिए. जिन लोगों का बजट कम हो, उनके लिए सेकंड-हैंड बाइक जाना एक अच्छा विकल्प है.

सेकंड हैंड बाइक खरीदने से पहले ध्यान रखने योग्य बातें

उद्देश्य क्या है
बाइक खरीदने के उद्देश्य के बारे में सोचें. बाइक खरीदना केवल एकमात्र खर्च नहीं है, आपको रखरखाव, बाइक बीमा, ईंधन आदि का भी खर्च उठाना होगा. उदाहरण के लिए, अपने आप से पूछें, क्या आपको एक बाइक की ज़रूरत है जो आपको ईंधन-कुशल तरीके से आवागमन करने में मदद कर सके या क्या आपको एक क्रूजर बाइक की ज़रूरत है जो आप लंबी सड़क यात्राओं पर सवारी कर सकें?

रिसर्च करें
एक बार जब आप उद्देश्य तय कर लेते हैं, तो यह उपलब्ध विकल्पों के बारे में गहराई से शोध करने का समय है. अलग-अलग डीलर अलग-अलग कीमतों पर बाइक की पेशकश कर सकते हैं. जरूरी नहीं कि सेकेंड हैंड बाइक खरीदने के लिए आपको बाइक डीलर पर निर्भर रहना पड़े. आप एक दोस्त या किसी मान्यता प्राप्त ऑनलाइन प्लेटफॉर्म से भी इसे खरीद सकते हैं.

सेकंड हैंड बाइक खरीदने से पहले ध्यान रखने इन बातों काआप जिस बाइक को खरीदने जा रहे हैं, उसे ऐसे देखें जैसे कि आप शर्लक होम्स हों. इसका गहन निरीक्षण करें. कार पर डेंट और खरोंच देखें.

टेस्ट राइड

एक बाइक बाहर से सुपर लग सकती है, लेकिन आपको यह जानने के लिए सवारी करनी चाहिए कि यह वाकई कैसा है. बाइक की सवारी का परीक्षण करने से आपको बाइक के प्रदर्शन का पता चल जाएगा. यदि आप बाइक के मैकेनिक्स से अच्छी तरह वाकिफ हैं, तो पाँच मिनट की सवारी भी आपको बाइक के कंडिशन के बारे में बता सकती है. यदि आप नौसिखिए हैं, तो आप बाइक की सवारी करने के लिए एक अनुभवी दोस्त या एक विश्वसनीय मैकेनिक साथ ले सकते हैं.

चेसिस नंबर की जाँच
आपके द्वारा खरीदी जाने वाली बाइक के साथ सहज होने के बाद, इसके चेसिस नंबर की जांच के लिए कुछ समय निकालें. प्लेट पर नंबर और इंजन का मिलान होना चाहिए. पुरानी बाइकों पर इस संख्या का पता लगाना मुश्किल हो सकता है लेकिन एक मैकेनिक इसे आसानी से जान सकता है. पंजीकरण प्रमाणपत्र में भी उसी चेसिस नंबर का उल्लेख किया जाना चाहिए.

सर्विसिंग रिकॉर्ड
विक्रेता के पास बाइक का सर्विसिंग रिकॉर्ड होगा. इस तरह, आपको पता चल जाएगा कि बाइक में कितना मेंटेनेंस का काम चल गया है और कितनी जरूरत है. यदि कोई लिखित रिकॉर्ड नहीं है, तो आप बस एक अनुमान के लिए पूछ सकते हैं.

दस्तावेज
यहां उस दस्तावेज़ की एक सूची दी गई है जो सेकंड-हैंड बाइक खरीदने के लिए आवश्यक है.
पंजीकरण प्रमाण पत्र
बाइक बीमा – आपके नाम पर हस्तांतरित
प्रदूषण नियंत्रण प्रमाण पत्र
आरटीओ फॉर्म: फॉर्म 28, फॉर्म 29, फॉर्म 30

बिक्री की रसीद

निगोशिएट प्राइस
उपर्युक्त बिंदुओं के आधार पर खरीद मूल्य पर चर्चा करें. उदाहरण के लिए, यदि बाइक में डेंट है या इसे ठीक से नहीं रखा गया है, तो बाइक की खरीद कीमत कम हो जानी चाहिए.


सत्यव्रत का मानना है कि टेक्नॉलजी का जितना इस्तेमाल करेंगे, उतना जानेंगे. इसी के चलते उन्होंने टेक जर्नलिस्ट बनने का फैसला लिया. सत्यव्रत ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण से की थी, साल 2015 में वह ज़ी न्यूज़ से जुड़े. वह न केवल टेक को अच्छी तरह से समझते हैं बल्कि यह भी जानते हैं कि कौन सी स्टोरी पाठकों को ज्यादा पसंद आती हैं. अब सत्यव्रत Mysmartprice से जुड़े हैं. और यहां भी उनका मकसद हर रोज बदल रही टेक्नॉलजी की दुनिया की हर बारीकी को आसान शब्दों में पाठकों तक पहुंचाना है.