भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस के साथ दुनिया के इन देशो में लें ड्राइविंग का मज़ा

यह हम सब जानते हैं कि देश में किसी भी जगह पर कार या अन्य वाहन चलाने के लिए आपको ड्राइविंग लाइसेंस की ज़रूरत पड़ती है. अगर ड्राइविंग लाइसेंस नहीं है तो मुसीबत हो सकती है. पर क्या आप ये जानते हैं कि आप भारत के ही ड्राइविंग लाइसेंस से दुनिया के कई देशों में ड्राइविंग का लुत्फ़ उठा सकते हैं?

जी हां! दुनिया में कई देश भारत के लाइसेंस को मान्यता देते हैं. आइए जानते हैं दूसरे किन देशों में आप भारत का लाइसेंस इस्तेमाल कर सकते हैं और कौन से नियमों का आपको पालन करना होगा-

अमेरिका: आपको सुनकर हैरानी हो सकती है पर यह एकदम सच है.आप अमेरिकी सड़कों पर पूरे एक साल तक भारतीय लाइसेंस के साथ गाड़ी चला सकते हैं. बस एक बात जिसका आपको ध्यान रखना होगा वह ये है कि आपका लाइसेंस अंग्रेजी भाषा में होना जरूरी है.

जर्मनी: ऑडी, बीएमडब्ल्यू और मर्सिडीज़ जैसी बेहतरीन कारों के लिए जाना जाने वाला जर्मनी ऑटो मोबाइल इंडस्ट्री का किंग माना जाता है. यहां की सड़कों पर आप 6 महीने तक भारत के लाइसेंस का इस्तेमाल कर कार ड्राइविंग कर सकते हैं.

कनाडा: जैसा कि हम सभी जानते हैं कनाडा को ‘मिनी पंजाब’ भी कहा जाता है. यहां पर आप बिना रोक-टोक के भारतीय लाइसेंस के साथ ड्राइविंग कर सकते हैं. एक चीज जो आपको यहां अलग मिलेगी वो है कि आपको ड्राइविंग दायीं ओर करनी होगी.

भूटान: भूटान भारत का पड़ोसी देश है और इसके साथ हमारे अच्छे संबधों के बारे में सभी जानते हैं. इस छोटे से और बेहद खूबसूरत देश में भी आप बेझिझक भारत के लाइसेंस का इस्तेमाल कर गाड़ी चला सकते हैं.

ऑस्ट्रेलिया: अमेरिका की तरह ही ऑस्ट्रेलिया में भी आपको भारत के लाइसेंस के साथ ड्राइविंग करने का मौका दिया जाता है अगर आपका लाइसेंस अंग्रेजी में है. इसके अलावा यहां आप सिर्फ तीन महीने तक ही अपने देश के लाइसेंस का इस्तेमाल कर सकते हैं.

ब्रिटेन: रोल्स रॉयस और लैंड रोवर जैसी लोकप्रिय कार के निर्माता देश ब्रिटेन में भी आप भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस का इस्तेमाल कर सकते हैं. बाईं ओर गाड़ी चलाने का नियम रखने वाले इस देश में आप एक साल तक अपने लाइसेंस का प्रयोग कर सकते हैं.

स्विट्ज़रलैंड: धरती का स्वर्ग कहा जाने वाला यूरोप का ये देश भारतीय लाइसेंस पर एक शर्त के साथ ड्राइविंग करने का मौका देता है. यहां आप केवल कंट्री साइड (ग्रामीण इलाके) में एक साल तक भारत का लाइसेंस इस्तेमाल कर सकते हैं. साथ ही यहां भी आपका लाइसेंस अंग्रेजी में होना अनिवार्य है.

साउथ अफ्रीका: साउथ अफ्रीका में भी आप अपना लाइसेंस लेकर वहां कार चला सकते हैं पर उसपर आपका फ़ोटो और साइन होना जरूरी है.

इटली: स्पोर्ट्स कारों के लिए जाने माने इस देश में अगर आपको गाड़ी चलाने का मौका मिल जाए तो क्या ही बात है. खुशी की बात है कि इटली में भी आप अपना लाइसेंस इस्तेमाल कर सकते हैं. हालांकि इसके लिए आपको इंटरनेशनल परमिट की आवश्यकता पड़ती है.

इसके अलावा आप फ्रांस, फिनलैंड, नार्वे, न्यूजीलैंड आदि में भी कुछ शर्तों के साथ भारतीय ड्राइविंग लाइसेंस इस्तेमाल कर सकते हैं.


सत्यव्रत का मानना है कि टेक्नॉलजी का जितना इस्तेमाल करेंगे, उतना जानेंगे. इसी के चलते उन्होंने टेक जर्नलिस्ट बनने का फैसला लिया. सत्यव्रत ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण से की थी, साल 2015 में वह ज़ी न्यूज़ से जुड़े. वह न केवल टेक को अच्छी तरह से समझते हैं बल्कि यह भी जानते हैं कि कौन सी स्टोरी पाठकों को ज्यादा पसंद आती हैं. अब सत्यव्रत Mysmartprice से जुड़े हैं. और यहां भी उनका मकसद हर रोज बदल रही टेक्नॉलजी की दुनिया की हर बारीकी को आसान शब्दों में पाठकों तक पहुंचाना है.