Toyota और Honda के लिए सिर दर्द बन रही हैं ये कारें! बेचने के लिए लिए निकला दम

होंडा की क्रॉस ओवर एसयूवी WRV जब आई तो लोगों ने इसे हाथों-हाथ खरीदा, लेकिन जैसे-जैसे इसके रिव्यू आने लगे और इसकी खराब परफॉर्मेंस की रिपोर्ट मिलने लगी तो इसका सीधा असर कार की बिक्री पर भी पड़ने लगा है...

भारतीय कार बाजार में एक तरफ जहां गाड़ियां जमकर बिक रही हैं, तो वहीं कुछ मॉडल ऐसे भी हैं जिनके लिए ग्राहक ही नहीं मिल रहे हैं। कंपनियों के लिए अब ये मॉडल सिर दर्द बन चुके हैं। Honda अपनी WR-V और Toyota की Urban Cruiser की बिक्री अब लगातार गिर रही है। कभी हजारों में बिकने वाली ये दोनों गाड़ियां अब काफी कम बिक रही है, आंकड़ें जानकर आपके भी होश उड़ सकते हैं।

Honda WRV

होंडा की क्रॉस ओवर एसयूवी WRV जब आई तो लोगों ने इसे हाथों-हाथ खरीदा, लेकिन जैसे-जैसे इसके रिव्यू आने लगे और इसकी खराब परफॉर्मेंस की रिपोर्ट मिलने लगी तो इसका सीधा असर कार की बिक्री पर भी पड़ने लगा। अब हालात ये हैं कंपनी को इसे बेच पाना भी काफी मुश्किल हो चला है। पिछले महीने की बिक्री की बात करें तो Honda WR-V की कुल 594 यूनिट्स की बिक्री हुई, जबकि बीते साल कंपनी ने इसकी इसी महीने में कुल 687 यूनिट्स की बिक्री की, इस बार कंपनी ने 93 कम गाड़ियों की बिक्री, जिससे YoY सेल में 13.54 प्रतिशत का नुकसान उठाना पड़ा, WR-V का इस समय सिर्फ 0.94 प्रतिशत मार्केट शेयर है। इसी साल अगस्त महीने में कंपनी ने इस गाड़ी की सिर्फ 415 यूनिट्स की ही बिक्री की थी। 

Honda WR-V की क्यों गिर रही है लगातार बिक्री ?

अभी हाल ही में  NCAP क्रैश टेस्ट में Honda WR-V हुई फेल हो चुकी है और इसका सीधा असर इसकी बिक्री पर भी आया गया है। क्रैश टेस्ट रिपोर्ट की बात करें, तो इसे एडल्ट ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन 41 प्रतिशत सेफ्टी स्कोर मिला। जबकि चाइल्ड ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन के लिए भी इसे 41 प्रतिशत सेफ्टी स्कोर मिला। पैदल चलने वालों को डिटेक्ट करने के लिए इसे 59 प्रतिशत स्कोर मिला। इस तरह इसे 5 में से सिर्फ 1 स्टार रेटिंग मिली। इस रेटिंग के हिसाब से यह गाड़ी एडल्ट के साथ बच्चों के लिए बिल्कुल भी सेफ नहीं है।

Honda WR-V में कुल दो वैरियंट्स मिलते हैं। इसकी कीमत 9.19 लाख रुपये से लेकर 12.31 लाख रुपये के बीच है। इसका पेट्रोल वैरियंट 16 किलोमीटर और डीजल वैरियंट 23 किलोमीटर प्रतिलीटर तक का माइलेज देता है। यह 1.2L और 1.5L इंजन में उपलब्ध है। सेफ्टी के लिए इस गाड़ी में डुअल ARS एयरबैग्स, एंटी लॉक ब्रेकिंग सिस्टम (ABS), ईबीडी (EBD), एडवांस्ड कंपेटिबिलिटी इंजीनियरिंग (ACE) बॉडी स्ट्रक्चर और रियर पार्किंग सेंसर जैसे कई अच्छे फीचर्स भी हैं, लेकिन ये सब आपको सेफ नहीं रख सकते। इसके अलावा, इसकी ज्यादा कीमत भी इसका एक बड़ा कमजोर पहलू है।

यह भी पढ़ें: Keeway ने भारत में लॉन्च की रेट्रो लुक वाली नई Keeway SR 125 बाइक, कीमत है बस इतनी

Toyota Urban Cruiser

होंडा की तरह टोयोटा का भी यही हाल है। कंपनी को अपनी कॉम्पैक्ट SUV Urban ruiser को बेचना काफी कठिन हो रहा है। गाड़ी अच्छी है, लेकिन अभी भी लोग इसकी जगह मारुति ब्रेजा को ही खरीदना पसंद कर रहे हैं, जबकि दोनों ही समान प्लेटफॉर्म इस्तेमाल करती हैं। पिछले महीने की बिक्री की बात करें, तो Toyota Urban Cruiser की कुल 350 यूनिट्स की बिक्री हुई, जबकि बीते साल कंपनी ने इसकी इसी महीने में कुल 816 यूनिट्स की बिक्री की, इस बार कंपनी ने 466 कम गाड़ियों की बिक्री, जिससे YoY सेल में 57.11 प्रतिशत का नुकसान उठाना पड़ा, WR-V का इस समय सिर्फ 0.56 प्रतिशत मार्केट शेयर है। इसी साल अगस्त महीने में कंपनी ने इस गाड़ी की सिर्फ 3,131 यूनिट्स की ही बिक्री की थी। 

Urban Cruiser की बिक्री क्यों गिर रही है?

भारतीय ग्राहक Toyota Urban Cruiser खरीदने की जगह मारुति सुजुकी ब्रेजा को चुन रहे हैं, क्योकि टोयोटा से ज्यादा मारुति सुजुकी पर लोगों को भरोसा है, फिर चाहे ये दोनों गाड़ियां समान प्लेटफॉर्म और टेक्नोलॉजी पर ही बेस्ड क्यों न हो। दूसरी बात एक जैसे मॉडल बनाना और वह भी अलग-अलग नाम से लोगों को रास नहीं आ रहा है। ऐसे में टोयोटा को कुछ नया करने की जरूरत है। Toyota Urban Cruiser की एक्स-शो रूम कीमत 9.02 लाख रुपये से शुरू होती है।

यह भी पढ़ेंः 80 हजार रुपये तक सस्ती हुई ये SUV, जानें दिवाली ऑफर्स की पूरी डिटेल


No posts to display