ये हैं भारत की Unsafe कारें, नई कार खरीदने से पहले देखें लिस्ट

कार बाजार में आजकल सेफ्टी को लेकर ज्यादा ध्यान दिया जा रहा है और कुछ कंपनियां तो इसी के दम पर अपनी कारें बेच रही हैं। वैसे सरकार भी अब सेफ्टी पर फोकस करते हुए नए-नए कानून बना रही हैं। वैसे हर कार कंपनी बेहतर मॉडल्स ही बनाती हैं और उनको ठीक से टेस्ट करने के बाद ही मार्केट में लॉन्च करती हैं, लेकिन सबसे बावजूद भी न्यू कार असेसमेंट प्रोग्राम (NCAP) एक संगठन है, जो नई कार की क्रैश टेस्ट कर उसे सेफ्टी रेटिंग देता है। यानी कार की क्रैश करने के बाद यह रिपोर्ट बनाई जाती है कि कार भीतर बैठे लोगों के लिए कितने सेफ है और इसकी बॉडी कितनी सॉलिड है। इस रिपोर्ट में  हम आपको कुछ ऐसी कारों की जानकारी दे रहे हैं जोकि दुर्घटना के मामले में असुरक्षित साबित हुई हैं। तो अगर आप एक नई कार खरीदने का मन बना रहे हैं तो यह रिपोर्ट को जरूर देखें यह आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकती है।  

Maruti EECO

मारुति सुजुकी EECO  काफी पॉपुलर मॉडल है और इसका इस्तेमाल पर्सनल और कमर्शियल दोनों के रूप में किया जाता है। यह एक वैन मॉडल है। मारुति EECO के नॉन एयरबैग वर्जन की टेस्टिंग साल 2016 में हुई थी। इसका वजन 1124 किलो था। इसे एडल्ट सेफ्टी रेटिंग में 0 स्टार और कोल्ड सेफ्टी रेटिंग में 2 स्टार मिले। EECO के किसी भी मॉडल में कोई सेफ्टी फीचर्स मौजूद नहीं पाए गये थे जैसा कि अपेक्षित था, बॉडी शेल इंटरगिटी को भी अस्थिर घोषित किया गया था। यह 6/7 सीटर में आती है। इसमें स्पेस अच्छा मिल जाता है। इंजन की बात करें तो मारुति EECO में 1.2 लीटर का G112B पेट्रोल इंजन लगा है जोकि 54kW की पावर और 98Nm का टॉर्क देता है, इसके अलावा इसमें 5 स्पीड मैन्युअल गियरबॉक्स की सुविधा मिलती है.यह गाड़ी CNG में भी उपलब्ध है। CNG मोड पर 20.88km/kg की माइलेज और पेट्रोल मोड पर 16.11 kmpl की माइलेज मिलती है। इसमें लगा इंजन पावरफुल होने के साथ ही किफायती भी है।डायमेंशन की बात करें इसकी लंबाई 3675 mm, चौड़ाई 1475 mm और ऊंचाई 1825 mm है। जबकि इसका व्हीलबेस 2350 mm दिया गया है और वजन 940 kg है। यह भी पढ़ें: Hero Splendor रेंज भारत में हुई महंगी साथ ही कंपनी ने बंद किये ये वैरिएंट्स

Hyundai Santro

Hyundai की छोटी कार Santro अजब अपने नए अवतार में आई तो कोई खास धमाका नहीं कर पाई। जिसकी सबसे बड़ी वजह इसका डिजाइन और वही पुराना इंजन, लेकिन कंपनी ने अभी तक इसके डिजाइन पर कोई काम नही किया है। यह एक  5 डोलर हैचबैक कार है। हुंडई की कई कारें सेफ्टी के मामले में बहुत शानदार हैं लेकिन सेंट्रो ने सेफ्टी के मामले में निराश किया है। इस कार के ड्राइवर साइड वेरिएंट को 2019 में टेस्ट किया गया था। 1099 किलोग्राम के इस वाहन में सेफ्टी के क्षेत्र में ड्राइवर साइड एयरबैग, SBR, ABS दिया गया है। इसकी बॉडी शेल इंटरगिटी को भी अस्थिर घोषित किया गया था। हालांकि, इसे एडल्ट और चाइल्ड सेफ्टी रेटिंग दोनों में 2 स्टार मिले है। इंजन की बात करें तो सेंट्रो में BS-6, 1086 cc का 4-सिलेंडर इंजन लगा है जोकि 68 hp की पावर और 99 Nm का टॉर्क जेनरेट करता है। यह इंजन 5 स्पीड मैनुअल गियरबॉक्स और AMT गियरबॉक्स से लैस है। इसके अलावा यह कार CNG में भी उपलब्ध है।