इन गलतियों की वजह से अक्सर मोटरसाइकिल स्टार्ट होने में करती है दिक्कत, आप भी जानें

वैसे किसी भी बाइक/मोटरसाइकिल में उसका एक-एक पुर्जा काफी खास होता है। हर पुर्जे की देखभाल जरूरी होती है। अगर किसी एक पुर्जे/पार्ट में खराबी आ जाए तो गाड़ी कहीं पर भी ब्रेक डाउन का शिकार हो सकती है। इसलिए कहा जाता है कि गाड़ी को एक दम फिट रखना चाहिये। बाइक में लगी बैटरी का काफी अहम रोल होता है, अक्सर देखने में आता है कि लोग बैटरी पर ध्यान नहीं देते जिसकी वजह से उसमें खराबी आने लगती है। बाइक जल्दी से स्टार्ट नहीं होती, अगर लगातार यह परेशानी सामने आ रही है तो इसका मतलब है कि बैटरी कमजोर होना शुरू हो जाती है।  

वैसे आजकल मैनेटेंस फ्री बैटरी आने लगी हैं लेकिन कई बार इनकी भी जांच करना जरूरी होता है। अक्सर बाइक की बैटरी में डिस्चार्ज प्रॉब्लम देखने को मिलती है ऐसा तब होता है जब  लम्बे समय से गाड़ी स्टार्ट ही नहीं हुई हो, इस रिपोर्ट में हम आपको बैटरी रख रखाव के बारे में जानकारी दे रहे हैं जो आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकते हैं।

बैटरी टर्मिनल को बराबर चेक करें  

बैटरी एक्सपर्ट के बताते हैं कि महीने में दो बार बैटरी और टर्मिनल की जांच करना चाहिये। बैटरी टर्मिनल के पास कई बार एसिड जमा हो जाता है जिसे समय पर साफ करना बेहद जरूरी है, क्योंकि यह आपकी बैटरी का दुश्मन भी है। कार में बैटरी ही ऊर्जा का प्रमुख स्रोत है। अगर बैटरी मेंटेनेंस फ्री नहीं है और उसमें बैटरी वाटर का इस्तेमाल किये जाता है। 

बैटरी टर्मिनल पर ग्रीस बिलकुल न लगायें   

लोकल जगह से गाड़ी की सर्विस करने के बाद मैकेनिक बैटरी के टर्मिनल पर ग्रीस लगा देते हैं, लेकिन एक्सपर्ट का मानना है कि ऐसा करने से बैटरी की सेहत पर बुरा असर पड़ता है। टर्मिनल पर ग्रीस लगाने से बैटरी खराब हो सकती है। इसलिए ग्रीस की जगह पैट्रोलियम जैली या फिर वैसलीन का इस्तेमाल कर सकते हैं। याद रखें हमेशा बैटरी टर्मिनल को साफ रखें।

मैनेटेंस फ्री बैटरी

आजकल मार्केट में जितनी भी बैटरी उपलब्ध हैं उनमें से ज्यादातर बैटरी 48 महीने की वारंटी मिलती है, लेकिन एक साल के बाद ही बैटरी खराब होने लगती हैं और बहुत अच्छा रखरखाव हो तो दो साल तक चल जाती हैं लेकिन फिर दिक्कतें आनी शुरू हो जाती हैं। अगर आपकी कार की बैटरी भी 2 साल के भीतर दिक्कत करना शुरू कर रही है तो इसे समय रहते बदलवा लें। 

खराब बैटरी देती है इशारा

अगर रात में बाइक चलाते समय  हेडलाइट कम या ज्यादा हो रही हो, फिर हॉर्न की आवाज में कमजोरी नजर आये तो समझ जाना चाइये कि बैटरी में गड़बड़ है। बैटरी के टर्मिनल के आस-पास सफेद निशान देखने को मिले तो समझ जाना चाइये कि बैटरी में गड़बड़ है। अगर स्पीडो मीटर में बैटरी की लाइट ठीक से नहीं दिख रही तो भी यह इस बात का संकेत है कि बैटरी की सेहत खराब है। ऐसे में तुरंत मैकेनिक से संपर्क करें, जरूरत हो तो बैटरी को तुरंत चेंज करा दें।

ऐसे बढ़ेगी  बैट्री की लाइफ

अगर आप कभी-कभी बाइक चलाते हैं तो, तो फिर आपको एक दिन छोड़कर एक दिन आप अपनी बाइक को कुछ देर के लिए स्टार्ट कर दें। या फिर एक छोटा सा चक्कर लगा लें इससे बैटरी चार्ज हो जाएगी। हांलाकि गर्मी में इस  तरह की दिक्कत ज्यादा देखने को नहीं मिलती लेकिन सर्दी के मौसम में ऐसा जरूर होता है।  इस बात पर जरूर ध्यान देना चाइये कि बैटरी अपनी जगह पर बिलकुल फिट है या नहीं, क्योकिं कई बार ढीली फिटिंग की वजह से चलती बाइक में बैटरी को नुकसान होता है।