इंजन ऑयल अगर बार-बार पड़ रहा है काला तो हो जायें सावधान, वरना हो सकता है तगड़ा नुकसान

लोगों की लाइफ इतनी ज्यादा बिजी हो चली है कि लोग न अपने आप का ध्यान रखते हैं और न ही अपने वाहन की देखभाल करते हैं, अक्सर आपने देखा होगा जो वाहन आप चलाते हैं उसका इंजन ऑयल समय से पहले से काला पड़ जाता है या कम होने लगता है, जिसकी वजह से वाहन की परफॉरमेंस  खराब होने लगती है जिससे इंजन पर भी बुरा असर पड़ता है। बाद में इसकी वजह से काफी नुकसान पहुंचता है। क्या आप जानते हैं कि अगर इंजन ऑयल कम होने या काला होने पर तुरंत ध्यान नहीं दिया तो इंजन सीज हो सकता है और बड़ा खर्चा आ जाता है। इंजन ऑयल के काला पड़ने के पीछे कई कारण होते हैं जिसके बारे में हम आपको इस रिपोर्ट में बताने जा रहे हैं साथ ही कुछ उपाय भी आपको बता रहे हैं।

आखिर इंजन ऑयल क्यों पड़ता है काला ?

जब भी गाड़ी की सर्विस होती है तब इंजन में नया ऑयल डाला जाता है। जोकि कुछ हजार किलोमीटर के बाद अपने आप या तो कम होने लगता है या काला पड़ने लगता है, अब यहां तक तो ठीक है लेकिन जब समय से पहले ही  इंजन ऑयल काला पड़ने लगे या कम होने तब विचार करना जरूरी बन जाता है। दरसरल ऐसा इसलिए होता है, जब हम ज्यादा क्लच का इस्तेमाल करते हैं तो ऐसा होता है, इसके अलावा गंदगी और कार्बन को साफ करने के कारण ऑयल काला पड़ जाता है। इसलिए  इंजन की उम्र बढ़ाने के लिए समय पर इंजन ऑयल चेंज करवा देना जरूरी होता है।

ऐसे बदलें  इंजन ऑयल

कार में इंजन ऑयल बदलना आसान नहीं है इसके लिए सर्विस सेंटर ही जाना होगा, लेकिन आप टॉप अप तो कर ही सकते हैं। लेकीन आप अपनी बाइक या स्कूटर में  इंजनऑयल आसानी से बदल सकते हैं या टॉप अप भी कर सकते हैं। इसके लिए सबसे पहले गाड़ी की मैनुअल बुक में इंजनऑयल बदलने के निर्देश को पढ़ें। ऑयल चेंज करने से पहले बाइक/स्कूटर को करीब पांच मिनट के लिए स्टार्ट करें और फिर बंद कर दें। इससे ऑयल गर्म होकर लाइट हो जाएगा। इसके अलावा इंजन के नीचे लगे कैप को हटाकर ऑयल को किसी बर्तन में इकट्ठा करें। इसके वाहन को अच्छी तरह से हिला डुला कर पूरे ऑयल को इंजन से बाहर निकालें। इंजन को फ्लश करके भी सफाई कर सकते हैं, इसके लिए आप थोड़ा सा पेट्रोल लेकर इंजन में डालें और इंजन स्टार्ट कर दें उसके बाद सारा कचरा निकल जाएगा, फिर आप नया ऑयल चेंज कर सकते हैं। इससे ऑयल और इंजन दोनों की उम्र बढ़ जाती है। ध्यान दीजिये इंजन ऑयल  बदलते समय ऑयल  फ़िल्टर को भी बदल देना चाहिये इससे परफॉरमेंस में काफी सुधार आता है।

ऑयल टॉप-अप भी है जरूरी

ज्यादा गाड़ी चलने से समय के साथ ऑयल जलता रहता है जिसकी वजह से उसकी मात्रा भी कम होने लगती है। लेकिन कई बार कम होने पर भी ऑयल में चिकनापन बरकरार रहता है, ऐसे में ऑयल टॉप-अप कराने से मौजूदा ऑयल पर अधिक दबाव पड़ता है, आजकल जितने भी नए इंजन आ रहे हैं उनमे ऑयल टॉप-अप न कराने को कहा जाता है। इंजन ऑयल हमेशा ब्रांडेड ही खरीदें नकली इंजन ऑयल खरीदने से बचें ताकि इंजन दुरुस्त बना रहे।