दिव्यांगों के लिए कमाल के हैं ये Assistive Devices, लाइफ बन जाएगी आसान

दिव्यांगों (Disabled person) की जिंदगी आम लोगों जितनी सहज नहीं होती है। डब्ल्यूएचओ (WHO) के मुताबिक, दुनिया की करीब 15 फीसदी आबादी किसी न किसी डिसेबिलिटी (disability) से ग्रस्त हैं। ऐसे ही लोगों की मदद के लिए अब टेक कंपनियां (tech companies) भी आगे आ रही हैं। आज बाजार में कई ऐसे असिस्टिव डिवाइस (Assistive Devices) उपलब्ध हैं, जो दिव्यांगों के लिए उपयोगी हो सकते हैं…

एक्सबॉक्स अडैप्टिव कंट्रोलर (Xbox adaptive controller)
एक्सबॉक्स अडैप्टिव कंट्रोलर को दिव्यांग को ध्यान में रख कर डिजाइन किया गया है। कंट्रोलर सफेद बॉक्स की तरह दिखता है, जिसमें दो बड़े काले बटन और एक छोटा स्टीयरिंग बटन। कंट्रोलर में दर्जन पर 3.5 एमएम जैक, स्विच, बटन, माउंट्स और जॉयस्टिक हैं। कंट्रोलर वायरलेस है और इसमें बिल्ट-इन रिचार्जेबल बैटरी का इस्तेमाल किया जा सकता है। कंट्रोलर का उपयोग एक्सबॉक्स वन कंसोल और विंडोज 10 पीसी के साथ किया जा सकता है। इसकी कीमत करीब 8539 रुपये है।

अमेजन इको स्मार्ट स्पीकर (Amazon echo smart speaker)
आमतौर पर लोग अमेजन इको को केवल एक स्मार्ट स्पीकर के रूप में देखते हैं, लेकिन यह डिवाइस दिव्यांग के लिए भी काम का हो सकता है। वास्तव में एलेक्सा द्वारा संचालित इको इस बात का सबसे अच्छा उदाहरण है कि असिस्टिव टेक्नोलॉजी दिव्यांगों के लिए इतना उपयोगी कैसे हो सकता है। लो विजन वाले व्यक्ति के लिए इको कहानियां पढ़ सकता है, बेसिक कैलकुलेशन कर सकता है आदि। साथ ही, यह आपके लिए अलार्म और रिमाइंडर भी सेट कर सकता है।

गूगल लाइव कैप्शनिंग (Google live captioning)
गूगल ने हाल ही में एक लाइव कैप्शन फीचर जोड़ा है, जो वीडियो, पॉडकास्ट या फोन पर वॉयस नोट्स के लिए रियल टाइम में कैप्शन को सपोर्ट करता है। यह सुविधा उन लोगों के लिए उपयोगी है, जो ठीक से सुन नहीं सकते हैं। जब लाइव कैप्शन फीचर चालू होता है, तो ऑडियो को पहचान पर ऑटोमैटिकली फोन स्क्रीन पर कैप्शन देने लगता है। यह 70 अलग-अलग प्राथमिक भाषाओं को सपोर्ट करता है। हालांकि इसके लिए इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता होती है। फिलहाल लाइव कैप्शन फीचर की सुविधा गूगल के पिक्सल फोन के अलावा, कुछ चुनिंदा एंड्रॉयड फोन में उपलब्ध है।

सैमसंग गुड वाइब्स (Samsung good vibes)
दिव्यांगों के लिए सैमसंग का गुड वाइब्स ऐप भी काम का हो सकता है। टु-वे कम्युनिकेशन के लिहाज से उपयोगी है। यह ऐप मोर्स कोड का इस्तेमाल करता है, जो वाइब्रेशन को टेक्स्ट या फिर वॉयस में कंवर्ट कर देता है। गुड वाइब्स ऐप को सैमसंग गैलेक्सी स्टोर के साथ-साथ गूगल प्ले स्टोर से भी डाउनलोड किया जा सकता है।

डॉट बुक (Dotbook)
आईआईटी-दिल्ली के शोधकर्ताओं द्वारा विकसित डॉटबुक विजुअली इंपेयर्स के लिए भारत का पहला ब्रेल लैपटॉप है। यह नियमित लैपटॉप जैसी स्क्रीन के बजाय ब्रेल का उपयोग करता है। इसकी मदद से विजुअल इंपेयर्स लोगों के लिए पढ़ना और लिखना आसान हो जाता है। यह दो मॉडल में उपलब्ध है- 40 क्यू वर्जन में हर पंक्ति में 40 कैरेक्टर्स हैं और इसमें पारंपरिक क्वर्टी कीबोर्ड के साथ एक ब्रेल कीबोर्ड मिलता है, वहीं 20पी वर्जन में प्रति लाइन में 20 कैरेक्टर्स हैं और इसके साथ केवल ब्रेल कीबोर्ड मिलता है। दोनों मॉडल ईमेल, वेब ब्राउजर और कैलकुलेटर जैसे बुनियादी एप्लिकेशंस को सपोर्ट करता है।