5G Spectrum Auction : 5G पर कंपनियों ने बहाया पानी की तरह पैसा, बोली में JIO ने मारी बाजी

सरकार ने 10 बैंड में स्पेक्ट्रम की पेशकश की थी, लेकिन 600 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज और 2300 मेगाहर्ट्ज बैंड में एयरवेव के लिए कोई बोली नहीं मिली।

5G Spectrum Auction

5G Spectrum Auction: 5G Spectrum (5जी स्पेक्ट्रम) के लिए सबसे बड़ी नीलामी सोमवार यानी आज खत्म हो गई है। बता दें कि सात दिनों की नीलामी में 1.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक मूल्य के 5G टेलीकॉम स्पेक्ट्रम की बिक्री हुई है, जिसमें अरबपति मुकेश अंबानी की कंपनी Jio ने सबसे अधिक बोली लगाई है। इसमें 1,50,173 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम बेचा गया यानी सरकार ने 1.5 लाख करोड़ रुपये से अधिक की कमाई की है। सूत्रों के मुताबिक, इस नीलामी में मुकेश अंबानी की कंपनी रिलायंस जिओ ने अपनी स्थिति को और ज्यादा मजबूत करने के लिए सबसे अधिक बोली लगाई।

आपको बता दें कि पिछले साल 77,815 करोड़ रुपये में 4G एयरवेव्स बिके थे और 2010 में 3G की नीलामी से 50,968.37 करोड़ रुपये जुटाए गए थे। रिलायंस जिओ 4G की तुलना में लगभग 10 गुना तेज गति, लैग-फ्री कनेक्टिविटी की पेशकश करने में सक्षम एयरवेव्स के लिए शीर्ष बोली लगाने वाली कंपनी बन गई है। वास्तविक समय में डेटा साझा करने के लिए अरबों कनेक्टेड डिवाइस को इनेबल कर सकता है। इसके बाद भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया का स्थान रहा।

यह भी पढ़ेंः इंतजार खत्म, टेलीकॉम मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव ने बताया कब आएगा 5G

बोली लगाने में भारती एयरटेल दूसरे स्थान पर

रिलायंस जियो (Reliance Jio) ने 4G की तुलना में लगभग 10 गुना अधिक तेज गति से संपर्क की पेशकश करने वाले रेडियो तरंगों के लिए सबसे अधिक बोली लगाई। इसके बाद भारती एयरटेल और वोडाफोन आइडिया लिमिटेड का स्थान रहा। बताया जाता है कि अडानी समूह ने प्राइवेट दूरसंचार नेटवर्क स्थापित करने के लिए 26 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम खरीदा है। हालांकि अभी इसकी जानकारी नहीं है कि किस कंपनी ने कितना स्पेक्ट्रम खरीदा है। 5G से अल्ट्रा-हाई स्पीड मोबाइल इंटरनेट कनेक्टिविटी मिलेगी।

5G
5G

10 बैंड में स्पेक्ट्रम की पेशकश

सरकार ने 10 बैंड में स्पेक्ट्रम की पेशकश की थी, लेकिन 600 मेगाहर्ट्ज, 800 मेगाहर्ट्ज और 2300 मेगाहर्ट्ज बैंड में एयरवेव के लिए कोई बोली नहीं मिली। लगभग दो-तिहाई बोलियां 5G बैंड (3300 मेगाहर्ट्ज और 26 गीगाहर्ट्ज) के लिए थीं, जबकि एक चौथाई से अधिक मांग 700 मेगाहर्ट्ज बैंड में आई थी – एक बैंड जो पिछली दो नीलामियों (2016 और 2021) में बिना बिके रह गया था। ) पिछले साल हुई नीलामी सिर्फ दो दिनों तक चली थी, जिसमें रिलायंस जिओ ने 57,122.65 करोड़ रुपये, भारती एयरटेल ने लगभग 18,699 करोड़ रुपये, और Vodafone Idea 1,993.40 करोड़ रुपये का स्पेक्ट्रम खरीदा था। 5जी के आने के बाद कुछ ही सेकंड में मोबाइल डिवाइस पर फुल-लेंथ हाई-क्वालिटी वीडियो या मूवी डाउनलोड की जा सकेंगे। फिफ्थ जेनरेशन यानी 5G के बाद ई-हेल्थ के अलावा, कनेक्टेड व्हीकल, अधिक इमर्सिव ऑगमेंटेड रियलिटी, मेटावर्स एक्सपीरियंस में काफी बदलाव आएंगे।

यह भी पढ़ें: 5G स्पीड में सबसे आगे निकली Vodafone Idea, 1.2Gbps स्पीड के साथ बनाया रिकॉर्ड