सरकार का बड़ा कदम, अब अक्टूबर 2023 से कारों में मिलेंगे 6 एयरबैग्स

पैसेंजर कारों (M-1 Category) में न्यूनतम 6 एयरबैग को 01 अक्टूबर, 2023 से लागू करने का निर्णय लिया गया है। जानें पूरी खबर...

airbag

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने कहा है कि भारत में पैसेंजर व्हीकल को कम से कम छह एयरबैग (six airbags) से लैस करना होगा। हालांकि वाहन निर्माता को अक्टूबर 2022 के बजाय अब अक्टूबर 2023 से इस नियम का पालन करना होगा। गडकरी ने एक ट्विटर पोस्ट में कहा कि यह नियम अब इस अक्टूबर के बजाय एक साल बाद लागू किया जाएगा। ट्वीट के जरिए उन्होंने कहा है कि ऑटो उद्योग द्वारा सामना की जा रही वैश्विक सप्लाई चैन बाधाओं और व्यापक आर्थिक परिदृश्य पर इसके प्रभाव को ध्यान में रखते हुए पैसेंजर कारों (M-1 Category) में न्यूनतम 6 एयरबैग को 01 अक्टूबर, 2023 से लागू करने का निर्णय लिया गया है।
नितिन गडकरी ने यह भी कहा कि मोटर वाहनों में यात्रा करने वाले सभी यात्रियों की सुरक्षा सर्वोच्च प्राथमिकता है।

भारत उन टॉप देशों में से एक है, जहां सड़क दुर्घटनाओं के कारण सबसे ज्यादा मौतें होती हैं। छह एयरबैग लगाने से यह संख्या कम हो सकती है। साथ ही, कार में पर्याप्त एयरबैग होने से इसमें सवार लोगों को भी चोट लगने की आशंका कम हो जाएगी। पैसेंजर व्हीकल में कम से कम छह एयरबैग इंस्टॉल करने का भारत सरकार यह निर्णय सड़क दुर्घटनाओं के कारण होने वाली मौतों और गंभीर चोटों की संख्या पर अंकुश लगाने में सहायक होगी। वर्तमान में देखें, तो लग्जरी कारों में दो या उससे अधिक फ्रंट एयरबैग होते हैं, जबकि अधिकांश मास मार्केट सेगमेंट के पैसेंजर व्हीकल में पर्याप्त एयरबैग की सुविधा नहीं होती है, लेकिन ये कुल बिक्री का 80 प्रतिशत से अधिक हिस्सा है।

यह भी पढ़ेंः GT Force ने लॉन्च किए दो सस्ते Electric Scooters, कीमत 50 हजार रुपये से कम


अमित कुमार निधि का नाम आपने दैनिक जागरण न्यूज पेपर में अक्सर पढ़ा होगा। जागरण में कई सालों तक इन्होंने कंज्यूमर और टेक्नोलॉजी पन्ना को संभाला और अब माय स्मार्ट प्राइस में एसोसिएट एडिटर के रूप में कार्यरत हैं। अमित को डिजिटल टेक्नोलॉजी के साथ रिसर्च काफी पसंद है। यही वजह है कि इनके फीचर आर्टिकल लगभग सभी बड़े मीडिया हाउस में पब्लिश होते रहे हैं। अपने 16 सालों के लंबे अनुभव में अमित ने लगभग हर तरह के आर्टिकल लिखे हैं जिनमें टेक्नोलॉजी के अलावा ट्रैवलॉग, एजुकेशन और बिजनेस लेख आदि शामिल हैं।

No posts to display