वाहन मालिकों और चालकों के लिए जरूरी खबर, ऑनलाइन रीन्यूअल समेत 15 अन्य सेवाओं के लिए आधार अथॉंटिकेशन जरूरी

सड़क परिवहन मंत्रालय के नए ड्राफ्ट ऑर्डर के मुताबिक, वाहन ऑन लाइन रीन्यूअल समेत अन्य 15 सेवाओं का लाभ उठाने के लिए वाहन मालिकों को आधार प्रमाणीकरण करवाना जरूरी होगा. ड्राइविंग लाइसेंस धारकों और वाहन मालिकों को 16 तरह की ऑनलाइन सर्विस पाने और आरटीओ दफ्तर का चक्कर लगाने से बचने के लिए आधार प्रमाणीकरण की आवश्यकता होगी. मसलन, ड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करना, डीएल का रीन्यूअल, एड्रेस चेंज, पंजीकरण का प्रमाण पत्र, अंतर्राष्ट्रीय ड्राइविंग लाइसेंस जारी करना, स्थानांतरण का नोटिस और वाहन के स्वामित्व के हस्तांतरण के लिए आवेदन आदि जैसे काम ऑनलाइन कराने के लिए आपको अपने आधार नंबर को अथॉंटिकेट करवाना होगा.

मंत्रालय ने इस ड्राफ्ट ऑर्डर पर सुझाव और आपत्तियां मांगी हैं. मंत्रालय के मुताबिक, “जो लोग आधार प्रमाणीकरण नहीं कराना चाहते, उन्हें ऐसी सेवाओं का लाभ उठाने के लिए व्यक्तिगत रूप से कार्यालय जाना होगा.” जाहिर है, मंत्रालय का ये नया ड्राफ्ट ऑर्डर बाध्यकारी नहीं है. बल्कि यह स्वैच्छिक होगा.

लेकिन, इसके कई फायदे भी होंगे. स्वैच्छिक आधार प्रमाणीकरण से सरकार को नकली दस्तावेज़ों और किसी एक व्यक्ति द्वारा एक से अधिक ड्राइविंग लाइसेंस रखने जैसी समस्याओं को दूर करने में मदद मिलेगी. गौरतलब है कि किसी व्यक्ति द्वारा एक से अधिक ड्राइविंग लाइसेंस रखना भी भारत में सड़क सुरक्षा की राह में एक बहुत बडी समस्या है.

मंत्रालय के एक सूत्र के अनुसार, आज लोग कांटैक्ट्लेस (संपर्क रहित) और ऑनलाइन सेवाओं का विकल्प अधिक चुननाअ पसन्द कर रहे हैं. इसलिए, मंत्रालय इस व्यवस्था के लोकप्रिय होने की उम्मीद कर रहा है. मंत्रालय की तरफ से राज्य सरकार को इस पहल को लोगों के बीच लोकप्रिय बनाने के लिए कहा जाएगा.

तो अगर आपको भी आरटीओ डिपार्टमेंट की लेनी है ऑनलाइन सेवा, तो मोबाइल से लिंक करवाइए अपना आधार, ताकि सर्विस लेते वक्त आपका आधार नंबर हो सके अथॉंटिकेट.


सत्यव्रत का मानना है कि टेक्नॉलजी का जितना इस्तेमाल करेंगे, उतना जानेंगे. इसी के चलते उन्होंने टेक जर्नलिस्ट बनने का फैसला लिया. सत्यव्रत ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण से की थी, साल 2015 में वह ज़ी न्यूज़ से जुड़े. वह न केवल टेक को अच्छी तरह से समझते हैं बल्कि यह भी जानते हैं कि कौन सी स्टोरी पाठकों को ज्यादा पसंद आती हैं. अब सत्यव्रत Mysmartprice से जुड़े हैं. और यहां भी उनका मकसद हर रोज बदल रही टेक्नॉलजी की दुनिया की हर बारीकी को आसान शब्दों में पाठकों तक पहुंचाना है.