अब गांव में भी मिलेगा फास्ट स्पीड में 4G इंटरनेट, Airtel और Jio करेंगे ये काम

जहां देश और दुनिया में 5G सेवाओं के शुरू होने की होड़ तेज हो चुकी हैं वहीं, भारत के कई गांव ऐसे भी हैं, जहां लोग अभी भी इंटरनेट सेवाओं को तरस रहे हैं। इंटरनेट सेवा के बढ़ते अकाल को देखते हुए भारतीय सरकार ने एक बेहतर कदम उठाया है। बताया जा रहा है कि, जल्द ही Airtel और Jio के साथ मिलकर सरकार कई पिछड़े गांव में 4G टावर सेटअप करने वाली है। सरकार ने इसके लिए 3,683 करोड़ का निवेश किया है। इस निवेश के साथ एयरटेल और जियो 4G सर्विसेज को कई पिछड़े गांव तक पहुंचाने में मदद करेंगे। भारत की यह दोनों प्रमुख टेलीकॉम कंपनियां इस प्रोजेक्ट के तहत करीब 4,779 4G टावर लगाने की तैयारी कर रही हैं।

यह भी पढ़ेंः Jio, Airtel और VI यूजर्स को फिर लगेगा महंगाई का झटका, एक बार फिर बढ़ सकती है प्लान्स की कीमत

जानकारी के लिए बता दें कि, इस कार्य के लिए सरकार ने प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है। जिसे लेकर काफी दिनों से असमंजस बना हुआ था। इस प्रोजेक्ट के तहत भारती एयरटेल और रिलायंस जियो को जिम्मेदारी दी गई है कि वे भारत के कई पिछड़े गांव में 4G मोबाइल टावर स्थापित करें। इस प्रोजेक्ट के मुताबिक भारत के 5 राज्यों में 4G टावर लगेंगे। जिसमें महाराष्ट्र, झारखंड, उड़ीसा, आंध्र प्रदेश और छत्तीसगढ़ की 44 डिस्ट्रिक्ट शामिल हैं।

साथ ही इस प्रोजेक्ट के तहत भारती एयरटेल 1,083 मोबाइल टावर लगाएगी। जिसकी कीमत 847.95 करोड़ की होगी। एयरटेल द्वारा यह मोबाइल टावर महाराष्ट्र और झारखंड में लगाए जाएंगे। वहीं, रिलायंस जिओ 3,696 मोबाइल टावर लगाएगा, जिसकी कीमत 2,836 करोड़ रुपये होगी। यह टावर अन्य राज्यों में लगाए जाएंगे। सरकार ने कुल मिलाकर 3,683 करोड़ का निवेश 4G मोबाइल टावर स्थापित करने के लिए किया है।

कितना समय मिलेगा

भारत की दिग्गज टेलीकॉम कंपनी एयरटेल और जियो को इस काम को अंजाम देने के लिए 18 महीने का वक्त मिलेगा। इस काम को लेकर भारत राज्यों की कई डिस्ट्रिक्ट को पिछले साल ही खोज लिया गया था। अब दोनों कंपनियों ने इस प्रोजेक्ट पर काम की शुरुआत भी कर दी है।

यह भी पढ़ेंः Motorola का सबसे सस्ता और दमदार Moto E32s स्मार्टफोन कल होगा लॉन्च

आपको बता दें कि, इन पांच राज्यों की 44 डिस्ट्रिक्ट के साथ-साथ करीब 7,228 गांवों में अच्छी 4G सर्विसेज को शुरू करने का लक्ष्य रखा गया है। जिसके लिए करीब 6,466 करोड़ का निवेश होने वाला है। इसमें प्रोजेक्ट के आने वाले 5 सालों का खर्च जुड़ा हुआ है। इसके साथ ही बताते चलें कि, इस बड़े प्रोजेक्ट के लिए यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन फंड (USOF) ने फण्ड दिया है और यह प्रोजेक्ट नवंबर 2023 तक पूरा होने की उम्मीद है।


अंकित ने पत्रकारिता की शुरुआत स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में की थी लेकिन तकनीकी के प्रति विशेष रुझान इन्हें Mysmartprice हिंदी में लेकर आया है। पत्रकारिता के दौरान इन्होंने एक चीज बखूबी सीखा है और वह है आसान भाषा में लोगों को सटीक जानकारी देना। और यही खूबी इन्हें दूसरों से अलग बनाती है। यहां अंकित मोबाइल और तकनीक के साथ ऑटोमोबाइल्स सेग्मेंट को भी कवर करते हैं। पत्रकारिता में इन्हें 5 साल से ज्यादा का अनुभव है जहां इन्होंने राज एक्सप्रेस, थिंक विथ नीश, स्टेट न्यूज और बंसल न्यूज जैसे आर्गेनाइजेशन में अपना योगदान दिया है। इन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन से मास्टर डिग्री ली है। साथ ही टाइम्स ग्रुप से बैंकिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया है।