बेहद सिक्योर होगा BSNL का 5G Ecosystem, भारत सरकार कर रही इसकी पुख्ता तैयारी

affordable BSNL prepaid plan
affordable BSNL prepaid plan

डेटा चोरी की घटना तेजी से बढ़ रही है। आप भी नहीं चाह रहे होंगे कि कोई आपके डेटा की चोरी करे। इन दिनों चूंकि डेटा को डिजिटल रूप से स्टोर और लेन-देन किया जाता है, इसलिए इसे हैक भी किया जा सकता है और गलत इरादों से लोगों इसे एक्सेस भी कर सकते हैं। वर्तमान भारत सरकार के लिए नेटवर्क सुरक्षा एक प्रमुख फोकस है। आपको बता दें कि 5G के साथ जिस तरह से लोग और मशीन जुड़ेंगे, वह 4G से पूरी तरह से अलग हो जाएगा।

भारत का 5G भविष्य सुरक्षित है, इसके लिए मोदी सरकार केवल विश्वसनीय विक्रेताओं के उपकरणों को मोबाइल नेटवर्क का हिस्सा बनने की अनुमति दे रही है। पहले 5G टेस्टिंग के दौरान देखा गया है कि कोई भी चीनी दूरसंचार विक्रेता सरकार की ट्रस्टेड विक्रेता लिस्ट में नहीं है।

भारत में कोई भी टेलीकॉम ऑपरेटर उन विक्रेताओं से उपकरण नहीं ले सकता, जो सरकार की विश्वसनीय सूची (trusted list) में नहीं हैं। भारत सरकार इस बात से सावधान है कि लंबे समय में देश के 5G नेटवर्क का हिस्सा कौन हो सकता है, जिसमें कोर और नॉन-कोर दोनों नेटवर्क शामिल हैं।

यह भी पढ़ेंः अपने नए लुक से दीवाना बना देगी 2022 Maruti Alto 800, जानें क्या होंगी खूबियां

स्वदेशी 4G और 5G के साथ आएगा BSNL
खास बात यह है कि खराब वित्तीय स्थिति के बावजूद बीएसएनएल (BSNL) विदेशी विक्रेता के साथ साझेदारी करने के बजाय घरेलू 4G के साथ आ रहा है। हालांकि यह अल्पावधि में एक खराब निर्णय की तरह लग सकता है, लेकिन यह भी देखना होगा कि इस कदम से BSNL भारत में पूरी तरह से घरेलू 4G और 5G पेश करने वाला पहला ऑपरेटर बन जाएगा।

बीएसएनएल (BSNL) 4G और 5G को 15 अगस्त, 2022 को लॉन्च कर सकता है। यह तो बस शुरुआत होगी। बीएसएनएल के घरेलू 4G के लॉन्च के साथ भारतीय टेलीकॉम गियर निर्माताओं के लिए एक तरह की बाजार विशेषज्ञता और इनोवेशन की काफी संभावनाएं आ जाएंगी। टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (TCS) जैसी कंपनियां, जिन्हें दूरसंचार विक्रेता के रूप में काम करने और 4G रेडियो की आपूर्ति करने का पहले से कोई अनुभव नहीं है, वह भी न केवल बीएसएनएल, बल्कि अन्य दूरसंचार कंपनियों के लिए भी ऐसा कर सकती है।

यह भी पढ़ेंः तगड़े फीचर्स से लैस होगा OnePlus Nord 3, 12GB रैम व 150W चार्जिंग के साथ आने की उम्मीद

स्वदेशी 4G और 5G नेटवर्क के साथ यूजर्स को अपने डेटा के लिए ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं होगी। यह भारत के भविष्य को सुरक्षित रखेगा और मोबाइल नेटवर्क के संबंध में राष्ट्र के लिए किसी भी खतरे से बचना होगा।

टेलीकॉम पीएलआई योजना (Telecom PLI Scheme) के साथ सरकार बहुराष्ट्रीय कंपनियों और गियर निर्माताओं को भारत के भीतर आने और दूरसंचार उपकरण बनाने के लिए आमंत्रित कर रही है। यह आगे सरकार को इन उपकरणों की सुरक्षा पर अधिक कंट्रोल देता है और यह सत्यापित करता है कि वे सुरक्षित हैं या नहीं। इसके अलावा, यह देश की अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देगा। टेलीकॉम पीएलआई योजना के साथ बीएसएनएल के साथ होमग्रोन 4G और 5G अधिक रोजगार जोड़ेंगे और अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाएंगे।

यह भी पढ़ेंः क्या सैमसंग गैलेक्सी A12 और रियलमी नार्जो 50A से बेहतर है Redmi 10, जानें बजट में कौन है बेस्ट

सोर्स