आम साइकिल को Electric Cycle में बदलकर केवल 8 रु. में नवी मुंबई निवासी तय करते हैं 50 km. की दूरी

Umesh Shripat with Electric Cycle

आम साइकिल पर लंबी यात्रा कभी आसान नहीं होता है। खंडा कॉलोनी निवासी 58 वर्षीय उमेश श्रीपत ने अपनी नियमित साइकिल को इलेक्ट्रिक साइकिल (electric cycle) में बदल कर अपनी लंबी यात्रा को आसान बनाने में सफल रहे। उन्हें अपनी नियमित साइकिल से सीबीडी बेलापुर में अपने कार्यालय तक पहुंचने के लिए 10 km की यात्रा करने में लगभग 40 मिनट का समय लगता था। मगर अब वे अपनी इलेक्ट्रिक साइकिल से उसी दूरी को केवल 24 मिनट में तय करते हैं।

MSEDCL में करते हैं कार्य
महाराष्ट्र स्टेट इलेक्ट्रिसिटी डिस्ट्रीब्यूशन कंपनी लिमिटेड (MSEDCL) के वरिष्ठ तकनीशियन ने शुरुआत में शारीरिक व्यायाम के रूप में अपने कार्यस्थल पर साइकिल से जाना शुरू किया था। हालांकि उन्हें अपनी नियमित साइकिल से समय पर ऑफिस पहुंचने के लिए संघर्ष करना पड़ता था। इसलिए उन्होंने अपनी साइकिल चलाने की आदत को छोड़े बिना यात्रा के समय को कम करने के विभिन्न विकल्पों की खोज शुरू कर दी।
यह भी पढ़ेंः Intel 11th Gen i3 प्रोसेसर के साथ बेस्ट हैं ये लैपटॉप, 2,000 रु. की ईएमआई पर उपलब्ध

उन्होंने कहा कि पेशे से तकनीशियन के रूप में मेरे पास चार्जेबल बैटरी का उपयोग करके हल्का वाहन चलाने का मूल विचार था। मैंने ऐसे वाहनों के कुछ वीडियो भी देखे और जिन्होंने वास्तव में मेरे विचारों को आकार दिया।

35,000 रुपये आया खर्च
वर्ष 2020 की पहली छमाही में मैंने एक DC बैटरी, इलेक्ट्रिक मोटर, एक्सेलेरेटर व अन्य आवश्यक सामग्री खरीदने के लिए लगभग 35,000 रुपये खर्च किए। इन चीजों का उपयोग करके मैं अपनी नियमित साइकिल को इलेक्ट्रिक में बदलने की कोशिश करता रहा। लगभग दो महीने बाद सफल हुआ।

हालांकि उनकी सफलता की कहानी बहुत से लोगों को तब तक नहीं पता थी, जब तक कि पिछले महीने MSEDCL द्वारा आयोजित रोड शो में उनके इलेक्ट्रिक साइकिल का प्रदर्शन नहीं किया गया था। उनके प्रयासों को पूरे आयोजन में प्रशंसा मिली और उनके वरिष्ठ ने भी इसके लिए उन्हें अंत में सम्मानित किया।
यह भी पढ़ेंः फल-सब्जियों से बैक्टीरिया और हानिकारक रसायनों को हटाना है, तो ले आएं ये Cleaner Machine, कीमत भी ज्यादा नहीं

सिंगल चार्ज में चलती है 50 Km
वे कहते हैं कि पूरी तरह से चार्ज होने वाली बैटरी के साथ मैं इस साइकिल पर लगभग 50 km की यात्रा कर सकता हूं। इसकी गति लगभग 25 km प्रति घंटा है और बुनियादी प्रशिक्षण वाला कोई भी व्यक्ति इसे चला सकता है। सबसे अच्छी बात यह है कि मैं अब भी इसे नियमित साइकिल की तरह इस्तेमाल कर सकता हूं और जब मैं जल्दी में नहीं होता हूं, तो मैं अक्सर पैडल मारता हूं।

इससे मुझे खुद को शेप में रखने में मदद मिली है। बैटरी को चार्ज करने में केवल दो यूनिट बिजली लगती है और इसकी लागत लगभग 8 रुपये है। इसलिए केवल 8 रुपये खर्च करके मैं इस साइकिल पर 50 km तक की यात्रा कर सकता हूं।