BIG NEWS: आखिर Ford ने भारत में क्यों बंद किया गाड़ियां बनाना, जानिए वजह

ऑटो बाजार से एक बड़ी खबर आ रही है, अमेरिकन कार निर्माता कंपनी फोर्ड इंडिया (Ford India) ने भारत में अपने दोनों मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में प्रोडक्शन बंद करेगी। आपको बात दें कि भारतीय बाजार में काफी लम्बे समय से कंपनी की बिक्री बहुत अच्छी साबित नही हो रही थी, बिक्री के मामले में कंपनी लगातार संघर्ष कर रही थी। लगातार भारत में कंपनी के वाहनों की बिक्री गिरती ही जा रही थी, और इसलिए कंपनी ने काफी समय से कोई नया वाहन भी बाजार में नहीं  उतारा था, लेकिन हाल ही में खबर यह भी आई थी कि फोर्ड अपनी कॉम्पैक्ट SUV EcoSport की टेस्टिंग कर रही है, अब इस गाड़ी का क्या होगा यह देखना अब दिलचस्प होगा। खबर यह भी मिल रही है कि फोर्ड ने फैसला किया है कि वो भारत में अपने दोनों मैन्युफैक्चरिंग प्लांट्स में प्रोडक्शन बंद करेगी।

ये है वजह

मीडिया रिपोर्ट्स और Reuters के मुताबिक फोर्ड मोटर कंपनी ने कथित तौर पर भारत में अपनी दोनों विनिर्माण सुविधाओं को बंद करने का फैसला किया है। जानकारी के मुताबिक कंपनी ने इस फैसले के पीछे मुनाफा न होने को जिम्मेदार ठहराया है। हालांकि अभी इसके बारे में फोर्ड मोटर के तरफ से कोई आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है। लेकिन ऐसा माना जा रहा है कि इसकी औपचारिक घोषणा जल्द ही कर दी जाएगी। रिपोर्ट के मुताबिक सोर्स में से एक ने पुष्टि की है कि फोर्ड ने अपने साणंद और मराई मलाई स्थित प्लांट्स में परिचालन बंद करने का निर्णय इसलिए ले रही है क्योंकि भारत में उसे कुछ ख़ास लाभ के संकेत नहीं दिख रहे हैं। वहीं सोर्स  के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में ये भी बात सामने आई है कि कंपनी देश में अपनी कुछ कारों को आयात के माध्यम से बेचना जारी रखेगा। यह मौजूदा ग्राहकों को सर्विस देने के लिए कंपनी डीलर्स को भी सहायता देगी। हालांकि अभी फोर्ड ने इस विषय में कोई जानकारी या टिप्पणी नहीं की है। आपको बात दें कि भारत में इससे पहले जनरल मोटर्स और हार्ले डेविडसन जैसी कंपनियां भी अपना कारोबार समेट चुकी हैं। वैसे जब कोई कंपनी इस तरह से अपना कारोबार किसी देश में बंद करती है तो उसका नुकसान उन लोगों पर काफी पड़ता है जो उससे जुड़े हैं।

फोर्ड के बिक्री के आंकड़े


फोर्ड (Ford) की गाड़ियों की बिक्री की अगर बात की जाए तो यहां पर कंपनी का प्रदर्शन बेहद निराशाजनक रहा है। बीते अगस्त महीने में कंपनी ने देश में सिर्फ 1,508 वाहनों की बिक्री की थी, जबकि पिछले यह की सामान अवधि में यह आंकड़ा 4,731 यूनिट्स का रहा था। इस दौरान कंपनी की बिक्री में पूरे 68.1 फीसदी की गिरावट देखने को मिली है। इसके अलावा पैसेंजर कार सेग्मेंट में भी कंपनी का मार्केट शेयर पिछले साल अगस्त महीने के 2 फीसदी की तुलना में घटकर 0.6 फीसदी रह गया है।

भारतीय कार बाजार में इस समय कंपनी के पास हैचबैक कार फिगो, सेडान कार एस्पायर, एसयूवी सेग्मेंट में इकोस्पोर्ट, एंडेवर और फ्रीस्टाइल जैसी कारें हैं जिनकी बिक्री फिलहाल जारी है। पिछले महीने में एंडेवर कंपनी की बेस्ट सेलिंग मॉडल रही है और इस दौरान कंपनी ने इसकी  कुल 928 यूनिट्स की बिक्री की थी जबकि फोर्ड फिगो की महज 7 यूनिट्स की ही बिक्री हो पाई थी। यानी कुल मिलकर कमजोर बिक्री के चलते फोर्ड इंडिया को भारत में अपना कारोबार आखिरकार बंद करना पड़ा है।