फर्राटेदार 5G स्पीड के लिए हो जाइए तैयार, 5G Spectrum नीलामी को मिली मंजूरी

5G को लेकर केंद्रीय कैबिनेट में 5G Spectrum की नीलामी को मंजूरी मिल गई है। नीलामी के बाद जल्द ही भारतीय ग्राहकों को फर्राटेदार 5G इंटरनेट स्पीड मिलने की उम्मीद है।

भारत में 5G Network और 5G Internet स्पीड को लेकर कई महीनों से चर्चा बनी हुई है। सभी को इस बात का इंतजार है कि कब भारत में 5G सेवाएं शुरू होंगी। इसे लेकर एक ताजा अपडेट सामने आया है। अब वह दिन दूर नहीं, जब भारत में 5G सेवाएं शुरू हो जाएगी। 5G को लेकर केंद्रीय कैबिनेट में 5G Spectrum की नीलामी को मंजूरी मिल गई है। जानकारी के मुताबिक, 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी आने वाले जुलाई में शुरू होगी। नीलामी के बाद जल्द ही भारतीय ग्राहकों को फर्राटेदार 5G इंटरनेट स्पीड मिलने की उम्मीद है। बताया जा रहा है कि 5G तकनीक 4जी से 10 गुना तेज होगी, जिसकी मदद से ग्राहक चंद सेकंड में हैवी डाटा डाउनलोड कर सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः साल 2032 तक 4.7 लाख के हो जाएंगे Apple iPhone, देखें ये हैरान करने वाले आंकड़े

जल्द शुरू होगा भारत में 5G

बता दें कि स्पेक्ट्रम की नीलामी को कैबिनेट ने मंजूरी दे दी है। प्रेस विज्ञप्ति में बताया गया है कि दूरसंचार विभाग की ओर से दर्ज की गई पेशकश को स्वीकार कर लिया गया है। मंजूरी मिलने के बाद अगले महीना नीलामी शुरू होने की उम्मीद है। इस नीलामी में 5G स्पेक्ट्रम पब्लिक और इंटरप्राइजेज दोनों को मौका मिलेगा। इसमें Jio, airtel, vi सहित Google, ericsson, Nokia, Amazon, TCS और Cisco जैसी कंपनियां बोली लगाती नजर आने वाली हैं। 5G को लेकर टेक कंपनी एरिक्सन का मानना है कि आने वाले 5 सालों में भारत में 5G सेवा करीब 50 करोड़ लोगों तक पहुंचने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ेंः कंपनी ने पेश किया Nothing Phone (1) का खूबसूरत डिजाइन, मेड इन इंडिया होगा यह फोन!

कितने साल के लिए होगी नीलामी

आपको बता दें कि विभाग की ओर से मिल रही जानकारी के मुताबिक, दूरसंचार मंत्रालय ने 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी को 20 साल के लिए रखा है यानी साल 2022 से लेकर साल 2042 तक इस नीलामी की वैधता होगी। नीलामी को अगले महीने जुलाई में शुरू किया जा सकता है। वहीं इस 20 साल की अवधि के लिए कुल 72097.85 MHz स्पेक्ट्रम की नीलामी की जानी है। इस नीलामी के दौरान 600 MHz, 700 MHz, 800 MHz, 900 MHz, 1800 MHz, 2100 MHz और 2300 MHz फ्रीक्वेंसी के लो-बैंड्स, 3300 MHz वाले मिड फ्रीक्वेंसी बैंड्स साथ ही 26 GHz हाई फ्रीक्वेंसी बैंड्स मौजूद होंगे।

बताते चलें कि दूरसंचार मंत्रालय ने 5G तकनीक को लेकर कहा है कि यह 4G से 10 गुना तेज होगी यानी ग्राहकों को करीब 20 GBPS तक डाउनलोड स्पीड मिलेगी। यह भी बताया गया है कि कैबिनेट की ओर से सभी टेलीकॉम सेवा निर्माताओं को 250 MHz E-band वाले 2 कैरियर दिए जाएंगे। इससे कंपनियों को बाजार में डिमांड पूरी करने में मदद मिलेगी। 


अंकित ने पत्रकारिता की शुरुआत स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में की थी लेकिन तकनीकी के प्रति विशेष रुझान इन्हें Mysmartprice हिंदी में लेकर आया है। पत्रकारिता के दौरान इन्होंने एक चीज बखूबी सीखा है और वह है आसान भाषा में लोगों को सटीक जानकारी देना। और यही खूबी इन्हें दूसरों से अलग बनाती है। यहां अंकित मोबाइल और तकनीक के साथ ऑटोमोबाइल्स सेग्मेंट को भी कवर करते हैं। पत्रकारिता में इन्हें 5 साल से ज्यादा का अनुभव है जहां इन्होंने राज एक्सप्रेस, थिंक विथ नीश, स्टेट न्यूज और बंसल न्यूज जैसे आर्गेनाइजेशन में अपना योगदान दिया है। इन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन से मास्टर डिग्री ली है। साथ ही टाइम्स ग्रुप से बैंकिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया है।