5G स्पेक्ट्रम कीमतों पर इंडस्ट्री का मसला हल कर रही सरकार, जल्द मिलेगा गोली की स्पीड में इंटरनेट

5G
5G

5G स्पेक्ट्रम की नीलामी को लेकर टेलीकॉम मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव का कहना है कि सरकार कीमतों और नीलामी को लेकर काम कर रही है। इंडस्ट्री में मौजूद सभी कंपनियां कीमतों को लेकर थोड़ी चिंता में है, इस चिंता के विषय पर अश्विनी का कहना है कि इस पर काम किया जा रहा है। टेलीकॉम मिनिस्टर के इस बयान के बाद इंडस्ट्री में खुशी की लहर दौड़ सकती है, क्योंकि अगर कीमतों में कमी आती है तो इंडस्ट्री के लिए यह अहम साबित होगा। टेलीकॉम मिनिस्टर अश्विनी वैष्णव ने गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान 5G स्पेक्ट्रम से जुड़े कई मसलों पर बात की है। अश्विनी वैष्णव ने इस बात की भी पुष्टि कर दी है कि, 5G स्पेक्ट्रम की नीलामी जून में होगी।

यह भी पढ़ेंः Xiaomi 12 Lite स्मार्टफोन की तस्वीरें वायरल, जानें लीक में सामने आए फीचर्स

स्पेक्ट्रम की कीमत पर हो रहा है काम

अश्विनी वैष्णव ने अपने बयान में कहा कि डिपार्टमेंट ऑफ टेलीकम्युनिकेशन 5G स्पेक्ट्रम की कीमतों के बारे में विचार कर रही है। जो कंपनियां स्पेक्ट्रम की कीमत को लेकर चिंता कर रही हैं। उस पर भी काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हम नीलामी करने के लिए समय सीमा के मुताबिक काम कर रहे हैं, अश्विनी वैष्णव के मुताबिक डिजिटल संचार आयोग ट्राई की सिफारिशों पर भी विचार कर रहा है।अश्विनी वैष्णव ने इस बात पर भी जोर दिया है कि, फिलहाल 5G स्पेक्ट्रम और टेलीकॉम सर्विसेज बड़ी जरूरत बन चुके हैं। टेलीकॉम मिनिस्टर ने आगे कहा कि डिजिटल संचार आयोग सभी फैसलों की जिम्मेदारी उठाता है और ट्राई की सिफारिशों पर आने वाले 5 से 6 दिनों में काम किया जाएगा। इसके अलावा कीमतों को लेकर कैबिनेट में अर्जी लगा दी गई है, जिसे आखिरी मंजूरी मिलना बाकी है।

यह भी पढ़ेंः बजाज ने Pulsar Elan और Pulsar Eleganz नाम को किया ट्रेडमार्क, जानें क्या है तैयारी

बता दें कि, भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) पहले ही प्रीमियम में 3.3-3.67 GHz के लिए 36% कम मूल्य का सुझाव दे चुका है। रिपोर्ट के मुताबिक इसमें 700 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम की दर में भी 40% की कमी की है, जिससे दूरसंचार सेवा प्रदाताओं को 5G स्पेक्ट्रम के लिए और ज्यादा बड़ी बोली लगानी पड़ सकती है।
हालांकि वैष्णव ने कहा है कि, डिजिटल संचार आयोग ने अभी अंतिम फैसला नहीं लिया है।

अब देखना यह है कि, आने वाले समय में इस मुद्दे पर क्या फैसला सामने आता है। क्या इंडस्ट्री को कीमतों में छूट मिलेगी इसके लिए अभी कुछ वक़्त का इंतजार करना होगा।


अंकित ने पत्रकारिता की शुरुआत स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में की थी लेकिन तकनीकी के प्रति विशेष रुझान इन्हें Mysmartprice हिंदी में लेकर आया है। पत्रकारिता के दौरान इन्होंने एक चीज बखूबी सीखा है और वह है आसान भाषा में लोगों को सटीक जानकारी देना। और यही खूबी इन्हें दूसरों से अलग बनाती है। यहां अंकित मोबाइल और तकनीक के साथ ऑटोमोबाइल्स सेग्मेंट को भी कवर करते हैं। पत्रकारिता में इन्हें 5 साल से ज्यादा का अनुभव है जहां इन्होंने राज एक्सप्रेस, थिंक विथ नीश, स्टेट न्यूज और बंसल न्यूज जैसे आर्गेनाइजेशन में अपना योगदान दिया है। इन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन से मास्टर डिग्री ली है। साथ ही टाइम्स ग्रुप से बैंकिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया है।