TikTok वॉटरमार्क वाले रील वीडियो को डिमोट करेगा Instagram

इंस्टाग्राम पर अब TikTok को प्रमोट नहीं किया जाएगा. इसके लिए बकायदा इंस्टाग्राम ने तैयारी भी शुरु कर दी है. यूजर्स अब TikTok वॉटरमार्क वाले वीडियो को इंस्टाग्राम पर पोस्ट तो कर सकेंगे, लेकिन इंस्टाग्राम उन्हें प्रमोट नहीं करेगा.


इंस्टाग्राम TikTok वॉटरमार्क वाले रील्स को डिमोट करेगा. कंपनी अपने एल्गोरिदम में एक अपडेट के माध्यम से ये बदलाव कर रही है. इस कदम से Instagram को अधिक ओरिजिनल पोस्ट मिलने में मदद मिल सकेगी.

इंस्टाग्राम के प्रवक्ता देवी नरसिम्हन के मुताबिक, “हम रील्स टैब पर मजेदार और मनोरंजक वीडियो के जरिए बेहतर अनुभव देना चाहते हैं. रैंकिंग सिग्नल्स का उपयोग करने में हम बेहतर हो रहे हैं जो हमें यह अनुमान लगाने में मदद करते हैं कि क्या लोगों को एक बेहतर मनोरंजन मिलेगा और हमें क्या रेकमेंड करना चाहिए.”

रिपोर्ट के अनुसार, इंस्टाग्राम ऐसे वीडियो को छिपाएगा नहीं या प्रतिबंधित नहीं करेगा, बल्कि इसे बढ़ावा नहीं देगा. यूजर्स अभी भी पोस्ट देख सकते हैं, लेकिन यह ऐप के रील्स फीड पर दिखाई नहीं दे सकता है.

ट्रंप सरकार द्वारा TikTok पर प्रतिबंध लगाने की योजना की घोषणा के तुरंत बाद इंस्टाग्राम ने रील लॉन्च किया था. पिछले साल जुलाई में, चीनी वीडियो शेयरिंग नेटवर्क पर प्रतिबंध के बाद भारत में रील्स की शुरुआत हुई. रील्स, टिकटॉक के जैसा ही है क्योंकि यह यूजर्स को शॉर्ट वीडियो रिकॉर्ड करने और उसे म्यूजिक, ट्रैक, फिल्टर आदि के साथ एडिट करने की अनुमति देता है.

शुरुआत के बाद से, इंस्टाग्राम ने रील को बढ़ावा देने के लिए इंटरफ़ेस में कुछ बदलाव किए हैं.

देसी ऐप

टॉवर की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि इंस्टाग्राम जनवरी 2021 में वैश्विक रूप से छठा शीर्ष ऐप था. टेलीग्राम, टिकटॉक, सिग्नल, फेसबुक और व्हाट्सएप शीर्ष पांच लिस्ट में शामिल थे.

गौरतलब है कि पिछले कुछ समय से भारत में टिकटॉक जैसी सर्विस की जगह अब मेड इन इंडिया ऐप तेजी से आ रही है. वीडियो साझा करने वाले स्वदेशी प्लेटफार्म जैसे कि मोज, जोश, चिंगारी, मिट्रॉन आदि ने बाजार में जगह बनाई है. दिलचस्प बात यह है कि सेंसर वॉच की रिपोर्ट के अनुसार, जनवरी 2014 में गूगल प्ले स्टोर पर वैश्विक स्तर पर मोज टॉप 10 ऐप्स में शामिल था.


सत्यव्रत का मानना है कि टेक्नॉलजी का जितना इस्तेमाल करेंगे, उतना जानेंगे. इसी के चलते उन्होंने टेक जर्नलिस्ट बनने का फैसला लिया. सत्यव्रत ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण से की थी, साल 2015 में वह ज़ी न्यूज़ से जुड़े. वह न केवल टेक को अच्छी तरह से समझते हैं बल्कि यह भी जानते हैं कि कौन सी स्टोरी पाठकों को ज्यादा पसंद आती हैं. अब सत्यव्रत Mysmartprice से जुड़े हैं. और यहां भी उनका मकसद हर रोज बदल रही टेक्नॉलजी की दुनिया की हर बारीकी को आसान शब्दों में पाठकों तक पहुंचाना है.