Maruti Suzuki अब नहीं बनाएगी छोटी कारें ! क्या खत्म हो जाएगा भारत में छोटी कारों का सफर, जानिये

भारत सरकार अक्टूबर 2022 से भारत में सभी कारों के लिए 6 एयरबैग अनिवार्य कर रही है। यह न केवल कारों को और ज्यादा महंगा बना देगा बल्कि जो छोटी कारें हैं उनकी कीमत में बड़ा फर्क पड़ेगा।

भारत में छोटी कारों को हमेशा से खूब पसंद किया जाता रहा है। कम बजट में शानदार कारें आपको मिलती है। लेकिन अब ऐसा हो सकता है कि छोटी कारों का सफर भारत में खत्म हो जाए। भारत सरकार 1 अक्टूबर, 2022 से पैसेंजर वाहनों में 6 एयरबैग अनिवार्य करने जा रही है। अब ऐसा करने से कारों की कॉस्ट में फर्क पड़ेगा यानी कारें महंगी हो जाएंगी। सरकार यह कदम लोगों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उठा रही है, लेकिन कुछ वाहन निर्माता इस नीति के लागू होने के खिलाफ हैं।

इस समय कारों के बेसिक मॉडल में भी 2 एयरबैग (ड्राइवर और पैसेंजर के लिए) मिल रहे हैं।  नए नियम के साथ, भारत सरकार अक्टूबर 2022 से भारत में सभी कारों के लिए 6 एयरबैग अनिवार्य कर रही है। यह न केवल कारों को और ज्यादा महंगा बना देगा बल्कि जो छोटी कारें हैं उनकी कीमत में बड़ा फर्क पड़ेगा।

60,000 रुपये तक महंगी हो सकती है कारें!

इस समय देश में सबसे ज्याद छोटी कारें मारुति सुजुकी के पास हैं जोकि आम ग्राहकों के बजट में मिल रही हैं, अब ऐसे में यदि 6 एयरबैग्स लगा दिए जाते हैं तो कारों की कीमतों में बड़ा फर्क देखने को मिलेगा। इस बारे में मारुति सुजुकी ने कहा कि 6 एयरबैग्स के बाद एंट्री लेवल कारों की कीमतों में60,000 रुपये तक की वृद्धि देखी जा सकती है। इस समय भारत में 10 सबसे ज्यादा बिकने वाली कारों में मारुति सुजुकी Alto, S-Presso, EECO और Celerio जैसे मॉडल शामिल हैं। Alto की कीमत 3.25 लाख रुपये से शुरू होती है।

यह भी पढ़ें: ये हैं देश की सबसे सुरक्षित Made in India कारें, अब बिना फिकर लो सफर का मजा

MSIL के चेयरमैन आरसी भार्गव ने कहा कि एंट्री-लेवल कारों की लागत में 4 एयरबैग को अलग से शामिल करने के बाद इनकी कीमतों में बढ़ोतरी होगी जिससे सेल्स पर बुरा असर पड़ेगा। ऐसे में कंपनी  स्मॉल कार सेगमेंट से बाहर निकलने के लिए तैयार है। देखना होगा सरकार अब इस बारे में क्या विचार करती है।