300 करोड़ से ज्यादा ई-मेल आईडी और पासवर्ड लीक, ऐसे चेक करें कहीं आपका डाटा भी तो नहीं आया बाहर

जिस तरह से लोग धीरे-धीरे ऑनलाइन की तरफ बढ़ रहे उसी तरह अब लोगों का डाटा भी पहले से काफी ज्यादा लीक होने लगा है। पहले जेब में पैसे रखकर चलते थे तो जेब कतरों का डर था और अब ऑनलाइन पैसा रखने पर हैकर्स और ऑनलाइन ठगों का डर है। लोग अपने स्मार्टफोन में आईडी प्रूफ से लेकर बैंक अकाउंट की डिटेल तक रखते हैं और सोचिए अगर आपके बैंक अकाउंट से जुड़ी जानकारी लीक हो जाए तब तो आपका पूरा पैसा साफ। अभी 300 करोड़ से अधिक ई-मेल आईडी और पासवर्ड के लीक होने की खबर आई है।

एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 3.2 बिलियन यानी 320 करोड़ ई-मेल आईडी पासवर्ड के साथ लीक हो गई हैं। साइबर न्यूज की रिपोर्ट की मानें तो कहा जा रहा है कि यह डाटा लीक नेटफ्लिक्स, लिंकडिन, बिट्क्वाइन जैसे प्लेटफॉर्म से हुआ है। इस लीक को कॉम्प्लीकेशन ऑफ मैनी ब्रीचेज (COMB) नाम दिया गया है। लीक डाटा को अर्काइव कर लिया गया है और पासवर्ड प्रोटेक्टेड कंटेनर में रखा गया है।

आपको बता दें जिस डाटाबेस से डाटा लीक हुआ है उसे count-total.sh, query.sh और sorter.sh बताया जा रहा है। इन स्क्रिप्ट के जरिए डाटा आसानी से चोरी हो जाता है। COMB डाटा लीक में डाटा को अल्फाबेटिकल क्रम में पासवर्ड के साथ रखा गया है।

इस डाटा लीक की बात करें तो यह काफी हद तक साल 2017 में हुए डाटा लीक जैसा है जिसमें 100 करोड़ से अधिक लोगों का डाटा प्लेन टेक्स्ट में लीक हुआ था। इस डाटा लीक में लिंकडिन, मेनक्राफ्ट, नेटफ्लिक्स, बडू, बिटक्वाइन और पेस्टबिन के यूजर्स प्रभावित हुए हैं। पहली जांच में यह पता चला है कि इसमें उन यूजर्स के अधिक डाटा हैं जिन्होंने जी-मेल और नेटफ्लिक्स के लिए एक ही पासवर्ड का इस्तेमाल किया था।

अब क्या है उपाय
ऐसी स्थिति में आपके पास पहला तरीका यही है कि तुरंत अपना पासवर्ड रीसेट कर लें। जो भी नया पासवर्ड बनाएं उसमें लेटर्स, स्पेशल कैरेक्टर और अंकों का इस्तेमाल करें। दूसरा काम आपको करना है कि अपने सभी डिवाइस से पूरी तरह से लॉगआउट करें और टू फैक्टर ऑथेंटिकेशन को ऑन कर लें। इसके अलावा आप https://cybernews.com/personal-data-leak-check/services और https://haveibeenpwned.com/ पर जाकर अपनी ई-मेल आईडी डालकर चेक कर सकते हैं कि क्या आपका डाटा भी लीक हुआ है या नहीं।