गेमिंग फर्म Nazara को मिला शानदार ‘नजराना’, निवेशकों से जुटाए 100 करोड़

Manish Agrawal, CEO, NAZARA,

Nazara भारत में मोबाइल गेमिंग, ई-स्पोर्ट्स और स्पोर्ट्स मीडिया फील्ड की एक प्रमुख गेमिंग कंपनी है. Nazara  ने पिछले पांच सालों में इंडियन गेमिंग स्पेस में 300 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश किया है. Nazara ने पिछले ही महीने इनिशियल पब्लिक ऑफर (आईपीओ) लाने के लिए आवेदन किया था. मुंबई स्थित इस गेमिंग स्टार्टअप को अब नॉर्थ अमेरिका की लिमिटेड पार्टनर्स ऑफ हॉर्नबिल ऑर्चिड इंडिया फंड की निवेश इकाई IGL से 100 करोड़ रुपये का निवेश हासिल हुआ है.

यह निवेश इंडियन गेमिंग Start-Up में इस महीने में दूसरा बड़ा निवेश है. पिछले हफ्ते, मोबाइल प्रीमियर लीग (एमपीएल) ने करीब 692 करोड़ रुपये के फंड जुटाए थे.

गेमिंग इंडस्ट्री की बल्ले-बल्ले

Nazara के CEO मनीष अग्रवाल कहते हैं, “हम नजारा में इस निवेश के साथ ही इंडियन गेमिंग इकोसिस्टम में हॉर्नबिल कैपिटल की एंट्री का स्वागत करते हैं. हमें खुशी है कि वे भारत में गेमिंग क्षेत्र के भविष्य को लेकर हमारे विश्वास और उत्साह को साझा करते हैं.”

कंपनी ने इससे पहले नवंबर 2017 में IIFL से 327 करोड़ और दिसंबर 2017 में अरबपति निवेशक राकेश झुनझुनवाला से 182 करोड़ रुपये के फंड जुटाए थे.

हॉर्नबिल कैपिटल एडवाइजर्स एलएलपी के संस्थापक और मैनेजिंग पार्टनर, मनोज ठाकुर ने एक बयान में कहा, “”हम कई वर्षों से नजारा की जर्नी को फॉलो कर रहे हैं. हम मानते हैं कि नजारा की टीम ने ईस्पोर्ट्स फील्ड में अपनी शानदार क्षमता का प्रदर्शन किया है और अगले दशक में भारत में गेमिंग स्पेस में ये बेहतर पोजिशन में होंगे.”

कोरोना से मिला गेमिंग को बूस्ट 

Nazara के पास eSports स्टार्टअप NODWIN गेमिंग में 57.05%, eSports मीडिया फर्म Sportskeeda में 63.9% और गेम डेवलपर्स नेक्स्ट वेव मल्टीमीडिया प्राइवेट में लिमिटेड में 52.38% का मेजोरिटी स्टेक है.

पिछले साल के बाद से भारत में गेमिंग कंपनियों ने अभूतपूर्व वृद्धि दर्ज की है, क्योंकि कोरोना महामारी ने नए Users, अधिक से अधिक जुड़ाव और गेमिंग पर अधिक समय और धन खर्च को संभव बना दिया.


सत्यव्रत का मानना है कि टेक्नॉलजी का जितना इस्तेमाल करेंगे, उतना जानेंगे. इसी के चलते उन्होंने टेक जर्नलिस्ट बनने का फैसला लिया. सत्यव्रत ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण से की थी, साल 2015 में वह ज़ी न्यूज़ से जुड़े. वह न केवल टेक को अच्छी तरह से समझते हैं बल्कि यह भी जानते हैं कि कौन सी स्टोरी पाठकों को ज्यादा पसंद आती हैं. अब सत्यव्रत Mysmartprice से जुड़े हैं. और यहां भी उनका मकसद हर रोज बदल रही टेक्नॉलजी की दुनिया की हर बारीकी को आसान शब्दों में पाठकों तक पहुंचाना है.