अब बिना इंटरनेट मिनटों में करें UPI Payment, जानें कैसे

123Pay UPI

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) द्वारा फीचर फोन इस्तेमाल कर रहे ग्राहकों को एक बड़ी खुशखबरी दी गई है। आरबीआई द्वारा यह फैसला उन करोड़ों लोगों के लिया गया है, जो स्मार्टफोन ना होने की वजह से यूपीआई पेमेंट नहीं कर पाते थे। दरअसल, अब RBI ने करोड़ों फीचर फोन यूजर्स के लिए 123Pay UPI नाम नया डिजिटल पेमेंट मोड लॉन्च किया है, जिससे अब बिना इंटरनेट व स्मार्टफोन के सिर्फ फीचर फोन से ही UPI पेमेंट की जा सकेगी। आइए आगे आपको बताते हैं कि कैसे इस सुविधा का इस्तेमाल कर किसी भी फीचर फोन से दुकानदार, दोस्त या बिल पेमेंट की जा सकेगी।

40 करोड़ से ज्यादा फीचर फोन यूजर्स

गौरतलब है कि भारत में अभी 118 करोड़ लोग मोबाइल फोन का इस्तेमाल करते हैं, जिसमें 74 करोड़ लोगों के पास स्मार्टफोन है। वहीं, दूसरी ओर लगभग 40 करोड़ लोगों के पास फीचर फोन है। इन्हीं 40 करोड़ से ज्यादा फीचर फोन यूजर्स को ध्यान में रखते हुए इस नए डिजिटल पेमेंट मोड को पेश किया गया है।
RBI के डिप्टी गवर्नर ने 123Pay UPI डिजिटल पेमेंट मोड को लॉन्च करते हुए कहा कि यही बड़ा कारण है कि हमने इस नई सेवा को बनाया है, जो यूपीआई को अगले स्तर पर ले जाएगा। साथ ही आरबीआई के डिप्टी गवर्नर टी रबी सरकार ने इस बारे में कहा कि भारत नें डिजिटल पेमेंट की दुनिया में काफी उन्नति की है, लेकिन यह स्मार्टफोन तक ही सीमित रह गया था और यूपीआई ने इंडिया के डिजिटल पेमेंट में बड़ा योगदान दिया है, इसलिए यह जरूरी है कि यूपीआई ऑफलाइन मोड पर और फीचर फोन पर भी उपलब्ध हो, ताकि इस पेमेंट की सुविधा को और आगे बढ़ाया जा सके। आरबीआई द्वारा इसके लिए पिछले दो-तीन सालों से काम किया जा रहा था।

यह भी पढ़ें:ऐपल के वर्जुअल इवेंट में लॉन्च हुए Mac Studio और Apple Studio Display, जानें कीमत

ऐसे होगी फीचर फोन से UPI पेमेंट

फीचर फोन उपयोग कर रहे लोगों के लिए 123Pay UPI का इस्तेमाल करना अब काफी आसान होगा। इसमें 4 तरह की तकनीक के साथ पैसे का भुगतान होगा। जिसमें पहला इंटरएक्टिव वॉयस रिस्पॉन्स (आईवीआर) नंबरों के उपयोग के माध्यम से होगा। कोई भी व्यक्ति नंबर डायल कर सुरक्षित कॉल कर सकता है, उसके बाद रजिस्टर होने पर इंटरनेट कनेक्टिविटी के बिना पेमेंट का लेनदेन संभव होगा।
दूसरे मॉड्यूल में फीचर फोन पर ऐप्स के जरिए सुविधा दी जाएगी। अधिकांश यूपीआई फंक्शन फीचर फोन पर ऐप उपलब्ध कराएंगे, जिसमें स्कैन करके भुगतान को छोड़कर लगभग सभी काम व लेनदेन आसानी से हो जाएंगे। हालांकि, अभी इस टेक्नोलॉजी पर काम किया जा रहा है, जिसे लाइव होने में कुछ समय लग सकता है।
फीचर फोन पर यूपीआई के लिए तीसरी तकनीक में प्रॉक्सिमिटी साउंड बेस पेमेंट शामिल है। यह तकनीक नेटवर्किंग को सक्षम करने के लिए ध्वनि तरंगों का उपयोग करती है। इसलिए किसी भी डिवाइस पर संपर्क रहित ऑफलाइन और प्रॉक्सिमिटी डाटा कम्युनिकेशन की मदद से लेनदेन हो पाता है।

यह भी पढ़ें:M1 चिप के साथ iPad Air (2022) लॉन्च, जानें क्या है कीमत और फीचर

चौथा और आखिरी तरीका वह है जो पहले भी मौजूद था, यानी कि मिस्ड कॉल सर्विस सुविधा, जहां यूजर्स को प्रमाणित करने और लेन-देन करने के लिए एक कॉल बैक किया जाएगा।

इसके अलावा आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने भी कहा कि यूपीआई ने डिजिटल पेमेंट की दुनिया में बड़ी भूमिका निभाई है। जिसमें 4.53 बिलियन भुगतान हुए हैं, जो 8.26 ट्रिलियन रुपए के बराबर है। यह भुगतान फरवरी 2022 में किए जा चुके है, जो की पिछले साल की तुलना में दोगुने हो चुके हैं। जबकि फरवरी 21 में यूपी के भुगतान 41 ट्रिलियन थे। गवर्नर दास ने आगे कहा कि यूपीआई के तहत सुविधाओं को अब समाज के उस वर्ग के लिए उपलब्ध किया जा रहा है, जो अब तक डिजिटल भुगतान नहीं कर पाते थे। इस सुविधा से अर्थव्यवस्था में भी सुधार होगा।
गौरतलब है कि आरबीआई द्वारा इस नई सुविधा के पहले भी यूपीआई फीचर फोन में उपलब्ध था, लेकिन इसे करने में काफी परेशानी होती थी। इसे एक यूएसएसडी USSD और अनस्ट्रक्चर्ड सप्लीमेंट्री सर्विस डाटा मोड की मदद से किया जाता था। इस दौरान किसी भी यूजर को फोन पर *99# डायल कर उपलब्ध प्रक्रिया द्वारा ट्रांजैक्शन करना पड़ता था। यह प्रक्रिया काफी परेशानी से भरी थी और इस मैसेज भेजने वाली प्रक्रिया में मैसेज के लिए भुगतान भी करना पड़ता था।


अंकित ने पत्रकारिता की शुरुआत स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में की थी लेकिन तकनीकी के प्रति विशेष रुझान इन्हें Mysmartprice हिंदी में लेकर आया है। पत्रकारिता के दौरान इन्होंने एक चीज बखूबी सीखा है और वह है आसान भाषा में लोगों को सटीक जानकारी देना। और यही खूबी इन्हें दूसरों से अलग बनाती है। यहां अंकित मोबाइल और तकनीक के साथ ऑटोमोबाइल्स सेग्मेंट को भी कवर करते हैं। पत्रकारिता में इन्हें 5 साल से ज्यादा का अनुभव है जहां इन्होंने राज एक्सप्रेस, थिंक विथ नीश, स्टेट न्यूज और बंसल न्यूज जैसे आर्गेनाइजेशन में अपना योगदान दिया है। इन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन से मास्टर डिग्री ली है। साथ ही टाइम्स ग्रुप से बैंकिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया है।