Okinawa ने वापस मंगवाए 3,215 इलेक्ट्रिक स्कूटर्स, ये है बड़ी वजह

Okinawa-Praise-Pro
Okinawa-Praise-Pro

इलेक्ट्रिक स्कूटर में बढ़ती बैटरी की समस्या को देखते हुए Okinawa Autotech ने अपने ग्राहकों के लिए नई पहल की है। कंपनी ने अपने इलेक्ट्रिक स्कूटरों की 3,215 से ज्यादा यूनिट को बैटरी सुधार के लिए वापस बुलाने का ऐलान किया है। Okinawa Autotech अपने इलेक्ट्रिक वाहनों के ग्राहकों को अच्छा अनुभव देने के लिए बैटरी की समस्याओं का हल निकल रही है। कंपनी ने शनिवार को बैटरी से जुड़ी किसी भी समस्या को ठीक करने के लिए अपनी प्रेज़ प्रो स्कूटर रेंज की 3,215 यूनिट को वापस मंगवाया है। कंपनी का कहना है कि यह अभियान हाल ही में हुई थर्मल घटना के मद्देनजर रखते हुए और ग्राहकों की सुरक्षा के लिए शुरू किया गया है।

यह भी पढ़ेंः Realme GT Neo 3 स्मार्टफोन की लॉन्च डेट का हुआ ऐलान, मिलेगी 150W फास्ट चार्जिंग और कई बड़े फीचर्स

बैटरी की जांच के लिए हो रहा है ऐसा

बता दें कि, Okinawa Autotech सात साल पुरानी कंपनी है। जो केवल इलेक्ट्रिक टू-व्हीलर बनाने पर ही काम करती है। कंपनी की शुरुआत जीतेंद्र शर्मा ने सात साल पहले की थी, जो आज बड़े मुकाम पर आ चुकी है। कंपनी अब तक तीन लो-स्पीड स्कूटर और चार हाई-स्पीड स्कूटरों का निर्माण कर चुकी है। वहीं, आने वाले कुछ समय में कंपनी जल्द ही एक इलेक्ट्रिक मोटरसाइकिल भी लॉन्च की तैयारी कर रही है।

बताया जा रहा है कि, कंपनी ने ग्राहकों की EV बैटरी की नियमित जांच के लिए यह कदम उठाया है। कंपनी का कहना है कि, वापस बुलाई गई सभी बैटरियों के कनेक्टरों से जुड़ी दिक्कत हो या कोई और परेशानी की पूरी जांच करेगी। साथ ही यह सेवा भारत में ओकिनावा के किसी भी ऑफिसियल डीलरों से जुड़ कर मुफ्त में ली जा सकती है।

ग्राहकों से किया जा रहा है संपर्क

कंपनी, ग्राहकों और डीलरों के साथ जुड़कर सही सर्विस देने पर काम कर रही है। कंपनी का कहना है कि हम ग्राहकों से बातचीत कर सही सर्विस का वादा करते हैं।

आपको बता दें ओकिनावा की EV स्कूटर में 11 अप्रैल को तिरपुर में आग लगने का मामला सामने आया था। वहीं, आग लगने का एक और मामला 26 मार्च को वेल्लोर में हुआ था, जहां ओकिनावा प्रेज प्रो में चार्ज करते समय आग लगने से एक व्यक्ति और उनकी 13 साल की बेटी को जान से हाथ धोना पड़ा था। इसके अलावा कई और कंपनियों के EV में भी आग लगने के मामले सामने आ चुके हैं।

यह भी पढ़ें: Maruti Suzuki इन 5 कारों पर दे रही है सबसे बड़ा डिस्काउंट, अभी है बड़ी बचत का मौका

नीति आयोग के फैसले का असर

नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने आदेश दिया था कि, ईवी निर्माता इलेक्ट्रिक वाहनों में किसी भी परेशानी को लेकर उन्हें वापस बुलाए और ठीक करें। उन्होंने 13 मार्च को वाहन निर्माताओं से बैटरी को ठीक से जांचने और इसके सही काम करने पर जोर दिया था। अब यह बात साफ है कि, अमिताभ कांत के निर्णय के बाद से कंपनियां हरकत में आना शुरू कर चुकी हैं।

बताते चलें कि, सरकार भी इलेक्ट्रिक गाड़ियों की जांच के लिए कदम उठा रही है। फिलहाल सरकार नेवल साइंस एंड टेक्नोलॉजिकल लेबोरेटरी (NSTL), विशाखापत्तनम, सेंटर फॉर फायर, एक्सप्लोसिव एंड एनवायरनमेंट सेफ्टी (CFEES) और इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस के विशेषज्ञों के साथ जुड़कर आग लगने के मामलों की जांच कर रही है।


अंकित ने पत्रकारिता की शुरुआत स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में की थी लेकिन तकनीकी के प्रति विशेष रुझान इन्हें Mysmartprice हिंदी में लेकर आया है। पत्रकारिता के दौरान इन्होंने एक चीज बखूबी सीखा है और वह है आसान भाषा में लोगों को सटीक जानकारी देना। और यही खूबी इन्हें दूसरों से अलग बनाती है। यहां अंकित मोबाइल और तकनीक के साथ ऑटोमोबाइल्स सेग्मेंट को भी कवर करते हैं। पत्रकारिता में इन्हें 5 साल से ज्यादा का अनुभव है जहां इन्होंने राज एक्सप्रेस, थिंक विथ नीश, स्टेट न्यूज और बंसल न्यूज जैसे आर्गेनाइजेशन में अपना योगदान दिया है। इन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन से मास्टर डिग्री ली है। साथ ही टाइम्स ग्रुप से बैंकिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया है।