Supermoon 2022 : आज चांद नजर आएगा अपने सबसे खूबसूरत रूप में, नहीं देखा होगा ऐसा नजारा

आज Biggest Supermoon 2022 के दिन चांद को काफी खूबसूरत होगा। इस दिन चांद को दिव्य रूप में देखा जाएगा। सामान्य की तुलना में यह काफी बड़ा, चमकीला और गुलाबी होगा।

Supermoon 2022
Supermoon 2022

आज की रात बेहद खास होने वाली है। यह खास मौका Supermoon 2022 को लेकर चर्चा में है। आज की रात यानी 13 जुलाई को Biggest Supermoon Of 2022 दिखने वाला है। इस आकाशीय घटना को लेकर बताया जाता है कि इसमें मून धरती के सबसे करीब पहुंच जाता है। आज एक खास मौका यह भी है कि आज गुरु पूर्णिमा का दिन है और आकाश में सुपरमून का खूबसूरत नजारा गुरु पूर्णिमा के दिन सामने आने वाला है। आज चांद काफी खूबसूरत नजर आएगा। बताया जाता है कि इस दिन चांद को दिव्य रूप में देखा जाएगा। सामान्य की तुलना में यह काफी बड़ा, चमकीला और गुलाबी होगा।

जानकारी के लिए बता दें कि आज के दिन धरती और चंद्रमा के बीच की दूरी सबसे कम हो जाएगी। यह दूरी करीब 357,264 किलोमीटर की मानी जा रही है। इसके अलावा, बताया जा रहा है कि इस Supermoon 2022 का असर समुद्र में भी देखने को मिलेगा। इसकी वजह से समुद्र में ऊंची लहरें भी देखने को मिल सकती हैं। विशेषज्ञों के मुताबिक, तटीय इलाकों में ऊंची लहरें और तूफान भी आ सकता है। वहीं, सभी लोग आज का इस Supermoon को रात 12 बजकर 7 मिनट पर देख सकते हैं। 

यह भी पढ़ेंः सिर्फ 8,999 रुपये में लॉन्च हुआ Infinix का यह Smart TV, जानें फीचर्स और ऑफर

आने वाले तीन दिन देखने को मिलेगा ये नजारा

बताया जाता है कि Supermoon के कुछ घंटे बाद Fullmoon भी नजर आने वाले हैं, जिसे आने वाले 2 से 3 दिनों तक देखा जा सकता है। दरअसल, विशेषज्ञों के मुताबिक असल में यह फुल मून नहीं होगा, लेकिन सुपरमून के नजर आने के बाद उसका असर दो-तीन दिन तक देखने को मिलेगा, इसकी वजह से इसे फुल मून कहा जा रहा है, इस दौरान चांद में बदलाव होंगे और यह काफी धीरे चलेगा, जिसकी वजह से फुल मून की तरह नजर आएगा, वही खुली आंखों से इस प्रक्रिया को देखना भी कठिन माना जाता है।

क्या है सुपरमून देखे जाने की वजह

जानकारी के मुताबिक जब चांद की दूरी धरती से बहुत कम हो जाती है और इसका आकार बड़ा हो जाता है, इसकी वजह से इसमें काफी चमक नजर आती है, यानी कि धरती और चांद काफी पास होते हैं। इस स्थिति में सुपरमून देखा जाता है।

बताते चलें कि सुपरमून का इतिहास कुछ ऐसा है कि इस नाम को सबसे पहले 1979 में सामने लाया गया था। इस समय भी चंद्रमा और धरती की दूरी काफी कम हो गई थी, इस तरह की घटना को देखने के बाद इसे Supermoon नाम दिया गया था। 

यह भी पढ़ेंः सिर्फ 4 सेकंड में 100 km की रफ्तार पकड़ती है Triumph TE-1 इलेक्ट्रिक बाइक, जल्द होगी लॉन्च


अंकित ने पत्रकारिता की शुरुआत स्पोर्ट्स जर्नलिस्ट के रूप में की थी लेकिन तकनीकी के प्रति विशेष रुझान इन्हें Mysmartprice हिंदी में लेकर आया है। पत्रकारिता के दौरान इन्होंने एक चीज बखूबी सीखा है और वह है आसान भाषा में लोगों को सटीक जानकारी देना। और यही खूबी इन्हें दूसरों से अलग बनाती है। यहां अंकित मोबाइल और तकनीक के साथ ऑटोमोबाइल्स सेग्मेंट को भी कवर करते हैं। पत्रकारिता में इन्हें 5 साल से ज्यादा का अनुभव है जहां इन्होंने राज एक्सप्रेस, थिंक विथ नीश, स्टेट न्यूज और बंसल न्यूज जैसे आर्गेनाइजेशन में अपना योगदान दिया है। इन्होंने माखनलाल चतुर्वेदी नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ जर्नलिज्म एंड कम्यूनिकेशन से मास्टर डिग्री ली है। साथ ही टाइम्स ग्रुप से बैंकिंग मैनेजमेंट में डिप्लोमा भी किया है।