चार्जिंग के समय ना करें फ़ोन का इस्तेमाल? आपको हो सकते हैं ये 5 नुकसान

बहुत बार ऐसा होता है कि आप फ़ोन पर कुछ बेहद काम की चीज कर रहे हैं, या किसी से बात कर रहे हैं और बैटरी खत्म होने की कगार पर है. या फिर आप अपना पसंदीदा गेम खेल रहे हैं और फ़ोन बंद हो जाए. ऐसे में आप क्या करते हैं? बहुत बार ऐसा होता है कि हम बिना कुछ सोचे समझे फ़ोन को चार्जिंग पर लगाते हैं और फ़ोन को हाथ में लेकर अपना काम जारी रखते हैं. हम इस चीज के फायदे नुकसान के बारे में बिल्कुल भी नहीं सोचते हैं. पर ऐसे में आपको कुछ चीज सोचने की जरूरत है-

– क्या यह सेफ है?

– क्या इससे आपको किसी तरह का खतरा हो सकता है?

– क्या यह आपके स्मार्टफ़ोन की परफॉरमेंस के लिए सही है?

दोनों का ही जवाब है, नहीं!

फ़ोन को चार्ज करते समय इस्तेमाल करना आपके और आपके फ़ोन दोनों के लिए ही सही नहीं है. आइए थोड़ा विस्तार से जानते हैं कि क्यों कभी भी फ़ोन को चार्जिंग पर लगाकर उसे इस्तेमाल करना सही निर्णय नहीं है-

हीटिंग की समस्या:

चार्जिंग के समय फ़ोन का थोड़ा बहुत गर्म होना स्वभाविक है पर अगर आप साथ ही साथ उसे इस्तेमाल भी करेंगे तो ओवरहीटिंग की आशंका रहती है. इससे आपके फ़ोन की बैटरी में अलग तरह के केमिकल का निर्माण होता है और बहुत से मामलों में यह बैटरी के फटने का कारण भी बन सकता है. इसलिए हीटिंग की समस्या से बचने के लिए कभी भी चार्जिंग पर लगा फ़ोन इस्तेमाल ना करें.

फ़ोन की बैटरी का साइज़ बढ़ने की संभावना:

अगर आप फ़ोन चार्ज करते समय इस्तेमाल करते हैं तो फ़ोन की बैटरी में बल्ज यानि कि उभार आ जाता है. यह आपको पहले के फ़ोन में बहुत ही आसानी से देखने को मिल जाता था, पर आजकल के स्मार्टफ़ोन में भी यह बहुत आम समस्या है. उभार की स्थिति में कई बार ऐसा होता है कि फ़ोनकी बैटरी एक समय के बाद चार्ज होना बंद हो जाती है.

फ़ोन की चार्जिंग क्षमता होती है कम:

यह आदत आपके फ़ोन की चार्जिंग क्षमता को भी कम कर देता है. आपका फ़ोन बहुत जल्दी डिस्चार्ज होने लगता है और उसकी बैटरी परफॉरमेंस पर बुरा असर पड़ता है.

चार्जर हो सकता है खराब:

सिर्फ आपका फ़ोन ही नहीं बल्कि आपका चार्जर भी आपकी इस आदत के कारण खराब हो सकता है. चार्जर की ज्यादा पावर खर्च होने के कारण कभी कभी वह खराब हो जाता है. ऐसे में आपको नया चार्जर लेने की आवश्यकता पड़ती है, यहां पर अगर आप कॉपी या नकली चार्जर लेते हैं तो वह फ़ोन के लिए बुरा है और ओरिजिनल चार्जर बार बार खरीदना इकोनोमिकल बिलकुल नहीं है.

आपको भी हो सकती है हानि:

कई बार हम ख़बरों में देखते और सुनते हैं कि फ़ोन की ओवरहीटिंग या बैटरी के अचानक फट जाने से लोगों को अपनी जान से भी हाथ गंवाना पड़ता है. यह मजाक की बात नहीं है. चार्ज करते समय अगर आप फ़ोन का इस्तेमाल करते हैं तो कभी कभी हीटिंग के कारण यह फट सकता है और यह आपके लिए बड़ा जोखिम हो सकता है.


सत्यव्रत का मानना है कि टेक्नॉलजी का जितना इस्तेमाल करेंगे, उतना जानेंगे. इसी के चलते उन्होंने टेक जर्नलिस्ट बनने का फैसला लिया. सत्यव्रत ने अपने करियर की शुरुआत दैनिक जागरण से की थी, साल 2015 में वह ज़ी न्यूज़ से जुड़े. वह न केवल टेक को अच्छी तरह से समझते हैं बल्कि यह भी जानते हैं कि कौन सी स्टोरी पाठकों को ज्यादा पसंद आती हैं. अब सत्यव्रत Mysmartprice से जुड़े हैं. और यहां भी उनका मकसद हर रोज बदल रही टेक्नॉलजी की दुनिया की हर बारीकी को आसान शब्दों में पाठकों तक पहुंचाना है.