अगर खरीदने जा रहे हैं Air Purifier, तो पहले जान लें ये बातें, फायदे में रहेंगे

how to buy best air purifier

भारत के कई शहरों की हवा जहरीली हो गई है। दिल्ली-एनसीआर, आगरा, पटना, ग्वालियर, रायपुर, अहमदाबाद और लखनऊ की स्थिति बेहद खराब है। ऐसे में अगर आपको लगता है कि वायु प्रदूषण सिर्फ घर के बाहर है और घर के अंदर आप सेफ हैं तो ऐसा बिल्कुल नहीं है। घर के अंदर की हवा भी कभी-कभी बहुत ज्यादा प्रदूषित और हानिकारक हो जाती है।

लिहाजा घर के अंदर की हवा को प्रदूषण मुक्त करने के लिए आपको एयर प्यूरीफायर (air purifier) का इस्तेमाल करना चाहिए। ऐसे में प्रदूषण से बचने के लिए एयर प्यूरीफायर भी एक जरिया होता है। हालांकि यह सच है कि आप अपने साथ हमेशा एयर प्यूरीफायर लेकर नहीं चल सकते, लेकिन जब आप घर पर हों या फिर घर में रहने वाले छोटे बच्चे और बुजुर्गों के लिए यह अच्छी हवा का एक माध्यम बन सकता है।

क्यों जरूरी है Air Purifier

एयर प्यूरीफायर (air purifier) हवा को फिल्टर करता है। एयर प्यूरीफायर के फिल्टर बहुत आसानी से चोक हो जाते हैं। इनको कुछ हद तक वैक्यूम क्लीनर से साफ किया जा सकता है। प्यूरीफायर को एक महीने यूज करने के बाद आप देख सकते हैं कि जो कुछ उस फिल्टर में जमा हुआ है वह आपके फेफड़ों में हो सकता था। हवा में पीएम 2.5 या पीएम 10 ही नहीं, बल्कि इसमें कई एलर्जी पैदा करने वाले कण, धूल, पराग, डस्ट माइट, जानवरों के बाल और कई तरह की गंध होती हैं। प्यूरीफायर की मदद से आप इन चीजों के प्रभाव को कम कर सकते हैं।

रूम का साइज

अगर आप घर के लिए air purifier खरीद रहे हैं, तो सबसे पहले रूम के साइज को ध्यान में रखें। मार्केट में कॉम्पैक्ट और हैवी दोनों साइज के एयर प्यूरीफायर उपलब्ध हैं। ऐसे प्यूरीफायर का चुनाव करें, जो रूम से साइज से ज्यादा के स्पेस को कवर करता हो यानी उससे ज्यादा से स्पेस की हवा को साफ करता हो।

एयर फील्टर

खरीदने से पहले रिसर्च कर लें कि प्यूरीफायर में किस तरह के फिल्टर का इस्तेमाल किया गया है। फील्टर ऐसा होना चाहिए कि वह पॉलेन, डस्ट, स्मॉक, इनडोर और आउटडोर पॉलुशन फैलानी वाली चीजों को फिल्टर करता हो। आमतौर पर चार तरह के फिल्टर मार्केट में उपलब्ध हैं- एचइपीए ( हाई इफिशियंसी पार्टिकुलेट एयर), चार्ज्ड मीडिया, एंटीबैक्टेरियल व जर्मिसिडल, इलेक्ट्रोस्टैटिक प्रेसिपिटेटर। एयर प्यूरीफायर किटाणुओं को खत्म नहीं कर पाते हैं, तो ऐसा प्यूरीफायर चुनिए, जिसमें एंटी बैक्टीरियल कोटिंग हो।

एयर चेंज रेट

एयर चेंज रेट से इस बात का पता लगता है कि प्यूरीफायर ने एक घंटे में कमरे की हवा को कितनी बार साफ किया है। इसका मतलब यह कि अगर कोई प्यूरीफायर 5 एसीएच (एयर चेंजिंग रेट) का दावा करता है, तो मतलब वह हर 12 मिनट में हवा साफ करेगा। अगर आपके परिवार में किसी को अस्थमा है, तो आपको 5 से 6 एसीएच रेटिंग वाले प्यूरीफायर का चुनाव करना चाहिए।

सीएडीआर रेटिंग

सीएडीआर का मतलब क्लीन एयर डिलिवरी रेट से होता है। इसका मतलब की एयर प्यूरीफायर कितनी जल्दी हवा साफ करता है। एक मिनट में कितना क्यूबिक फीट हवा को फिल्टर करता है। अगर सीएडीआर नंबर ज्यादा है, तो इसका मतलब है कि एयर फिल्टरेशन बेहतर है। अगर बड़े स्पेस के लिए एयर प्यूरीफायर ले रहे हैं, तो फिर जिसका सीएडीआर नंबर ज्यादा हो, उसी का चुनाव करें।

एक्टिवेटिड कार्बन लेयर

ऐसा एयर प्यूरीफायर खरीदें जो एक्टिवेटिड कार्बन लेयर के साथ आए। यह लेयर हवा में मौजूद सभी हानिकारक गैस और केमिकल्स को फिल्टर कर देती है। जितना बड़ा कार्बन फिल्टर होगा वह उतनी ज्यादा केमिकल गैस फिल्टर कर पाएगा। इसी के साथ यूवी फिल्ट्रेशन और आइओनाइजेशव पर आधारित प्यूरीफायर लेने से बचें। इससे सांस से संबंधित समस्याएं हो सकती है।

सर्टिफिकेशन

एएचएएम (अमेरिकन) और चाइना सर्टिफिकेशन वाले बेहतर प्यूरीफायर माने जाते हैं। इसलिए खरीदते समय ध्यान रखें कि प्यूरीफायर वेरिफाई हो।

परफॉर्मेंस

एयर प्यूरीफायर की परफॉर्मेंस इसके कवरेज एरिया, क्लीन एयर डिलिवरी रेट (सीएडीआर) और एयर चेंज पर आवर(एसीएच) से रेट की जाती है। ज्यादातर ब्रांड के पास सीएडीआर मॉडल होते हैं, तो खरीदते समय इसके बारे में जरूर पूछ लें। बिजली की खपत को ध्यान में रखने के लिए एयर प्यूरीफायर के एनर्जी स्टार रेटिंग को जरूर चेक करें।

पोर्टेबिलिटी, नॉयस और वजन

प्यूरीफायर लेते समय पोर्टेबिलिटी और उसके वजन को ध्यान में रखना बेहद जरूरी है। छोटे air purifier में बड़े कमरे की हवा को साफ करने की क्षमता हो सकती है। वहीं, बड़ा प्यूरीफायर महंगा भी होगा और कमरे में ज्यादा जगह भी लेगा। इसी के साथ यह भी जांच लें की किस प्यूरीफायर में कम आवाज आती है। सभी प्यूरीफायर में पंखे होते हैं। इस तरह आवाज तो सभी करेंगे। बस इस बात का ध्यान रखें कि कौन-सा प्यूरीफायर कम आवाज करेगा।

फिल्टर रिप्लेसमेंट और कस्टमर सर्विस

एयर प्यूरीफायर की खरीदारी के दौरान फिल्टर रिप्लेसमेंट और कस्टमर सर्विस की सुविधा का ध्यान भी रखें। फिल्टर के खास समय के बाद रिप्लेस भी करना होता है। साथ ही, कंपनी क्या ऑफर कर रही है, उसका भी ध्यान रखें। दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस की तरह ही एयर प्यूरीफायर भी वारंटी के साथ आते हैं। इसलिए सभी टर्म और कंडिशन को अच्छे से चेक कर लें।

इन बातों का रखें ध्यान

  • प्यूरीफायर का इस्तेमाल बंद कमरे में करते हैं, तो यह ज्यादा असरदार साबित हो सकता है।
  • प्यूरीफायर लगाने की बेस्ट जगह आपका बेडरूम है और अगर आपको फर्क नजर आए तो बाकी जगह भी लगवा सकते हैं।
  • कमरे के साइज के हिसाब से प्यूरीफायर आपके कमरे की हवा को 15 से 30 मिनट में साफ कर देगा और इसके बाद भी अपना काम करता रहेगा।