पुरानी Inverter Battery में ऐसे फूंकें जान, चलती रहेगी सालों साल

अगर आप Inverter Battery में एडिट का उपयोग करते हैं, तो फिर इसकी लाइफ को भी कम करते हैं। इन बैटरियों को लेड-एसिड बैटरी के रूप में जाना जाता है।

Inverter Battery

बिजली कटौती की मार से बचने के लिए आमतौर पर लोग अपने घरों में इनवर्टर (Inverter) का उपयोग करते ही हैं। मगर आपको बता दें कि आपका महंगा इनवर्टर भी आपका साथ नहीं देगा, अगर आप अच्छे से उसका केयर नहीं करते हैं। खासतौर पर इनवर्टर बैटरी (Inverter Battery) का ख्याल रखना जरूरी है। कई बार देखा गया है कि लोग बैटरी में एसिड का इस्तेमाल करते हैं, लेकिन यह बैटरी की लाइफ और कम कर देता है। आइए जानें बैटरी की लाइफ को कैसे बढ़ा सकते हैं और इसके लिए क्या जरूरी है…

Battery की ऐसे करें केयर

  • इनवर्टर बैटरी (Inverter Battery) को कहां पर रखते हैं, यह बड़ा महत्व रखता है। आप इसे ऐसी जगह न रखें, जहां सूर्य की रोशनी सीधी पड़ती हो। बैटरी के लिए ट्राली का इस्तेमाल कर इसकी सुरक्षा को बढ़ा सकते हैं। बैटरी को हमेशा हीट सोर्स से दूर रखें। इसे सूखी और पूरी तरह से हवादार जगह पर रखना चाहिए। फ्लैट प्लेट और ट्यूबलर बैटरियों (tubular battery) को अधिक वेंटिलेशन की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे कार्बन डाइऑक्साइड और कार्बन मोनोऑक्साइड उत्सर्जित करते हैं।
  • आपको यह ध्यान रखना चाहिए बैटरी जहां रखते हैं, वह बच्चों की पहुंच से दूर होनी चाहिए। अगर बच्चे उन्हें छूते हैं, तो अनावश्यक दुर्घटनाओं से पीड़ित हो सकते हैं। बैटरी को ग्राउंड लेवल पर रखना ठीक होता है, क्योंकि समय-समय पर फ्लाट इंडिकेटर की निगरानी करना आसान हो जाता है। यदि आपके पास एसएमएफ बैटरियां (सील्ड मेंटिनेंस फ्री) हैं, तो आप उन्हें ऊंचे लेवल पर भी रख सकते हैं।

    यह भी पढ़ेंः Toyota Hyryder का पहला ऑफिशियल टीजर जारी, दमदार अर्बन क्रूजर 1 जुलाई को होगी लॉन्च
Inverter Battery

बैटरी में न करें एसिड का उपयोग

  • अगर आप बैटरी में एडिट का उपयोग करते हैं, तो फिर इसकी लाइफ को भी कम करते हैं। इन बैटरियों को लेड-एसिड बैटरी के रूप में जाना जाता है। बैटरी में कभी भी एसिड नहीं डालना चाहिए। रिफिलिंग केवल डिस्टिल्ड वाटर (distilled water) के माध्यम से होनी चाहिए। यह पानी आपको बैटरी की दुकानों और पेट्रोल पंप पर मिल जाएंगे। साथ ही, बैटरी वाटर इंडिकेटर लिड्स को खुला न रखें।
  • इनवर्टर बैटरी (Inverter Battery) एक्सटेंडेड वारंटी के साथ आती है। आप अपनी पुरानी बैटरी को नई बैटरी से बदल सकते हैं और अच्छी छूट भी पा सकते हैं। इसलिए बैटरी को कूड़ेदान आदि में नहीं फेंकना चाहिए। ये बैटरियां रिसाइकिल करने योग्य होती हैं।

नियमित इस्तेमाल है जरूरी

  • इनवर्टर बैटरियों (Inverter Battery) का नियमित रूप से उपयोग नहीं करते हैं, तो फिर इसकी लाइफ कम हो जाती है। अगर आपके एरिया में बिजली की कटौती नहीं होती है, लेकिन आपके पास इनवर्टर है, तो बैटरी का बीच-बीच में इस्तेमाल जरूरी है। नहीं तो खराब होने की आशंका रहती है।
  • यह बैटरी को डिस्चार्ज और फिर से रिचार्ज करना जरूरी होता है। इससे बैटरी की लाइफ बेहतर होती है। इसलिए समय-समय पर बैटरी को भी चार्ज करते रहें। बैटरी टर्मिनल (battery terminal) हमेशा जंग मुक्त होना चाहिए। यदि टर्मिनल पर जंग या नमक जमा होता है, तो उसे साफ करना बेहतर जरूरी है। गर्म पानी और बेकिंग सोडा के मिश्रण से इसे आसानी से साफ किया जा सकता है। आप टर्मिनल को साफ करने के लिए एक पुराने टूथब्रश का उपयोग कर सकते हैं। एक बार साफ हो जाने के बाद जंग को रोकने के लिए टर्मिनल के नटों और बोल्टों पर पेट्रोलियम जेली या वैसलीन का उपयोग करना चाहिए।

    यह भी पढ़ेंः Jio, Airtel, Vi: दो महीने की वैलिडिटी वाले ये हैं बेस्ट Prepaid Plans, जानें पूरी डिटेल