Income Tax Return की तारीख आ गई बेहद नजदीक, जानें कैसे भरें ऑनलाइन इनकम टैक्स

ई-फाइलिंग के लिए सबसे पहले https://www.incometax.gov.in/iec/foportal साइट को ओपन करें। यहां आपको अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा।

Income Tax Return

इनकम टैक्स रिटर्न (Income Tax Return) की अंतिम तिथि 31 जुलाई, 2022 है, जो कि अब काफी नजदीक है। आईटीआर की सीमा नजदीक आते ही लोगों ने आयकर विभाग से 31 जुलाई की समय सीमा पर फिर से विचार करने का अनुरोध शुरू कर दिया है। माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर पर कई यूजर्स ने हैशटैग #Extend_Due_Dates के साथ पोस्ट करना शुरू कर दिया है। वैसे आयकर विभाग ने ऑनलाइन इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने की प्रक्रिया को काफी आसान बना दिया है। Assessment Year 2022-23 के लिए इनकम टैक्स रिटर्न ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरीके से फाइल किए जा सकते हैं। इसके लिए वेबसाइट और ऐप्स की मदद भी ली जा सकती है। पांच लाख रुपये से ज्यादा आय वालों के लिए ऑनलाइन आईटीआर फाइल करना अनिवार्य है। इनकम टैक्स को ऑनलाइन भरने की प्रक्रिया को ई-फाइलिंग (e-filing) कहा जाता है। ई-फाइलिंग के लिए आपको आयकर विभाग की वेबसाइट https://www.incometax.gov.in/iec/foportal पर खुद को रजिस्टर करना होगा।

ITR filing के लिए ऐसे करें रजिस्टर

ई-फाइलिंग के लिए सबसे पहले https://www.incometax.gov.in/iec/foportal साइट को ओपन करें। यहां आपको अपना रजिस्ट्रेशन करना होगा। अगर आप पहली बार ई-फाइलिंग करने जा रहे हैं, तो यहां पर दायीं तरफ आपको रजिस्टर का विकल्प दिखाई देगा। इस पर क्लिक करने के बाद एक पेज खुलेगा, जिसमें मांगी गई जानकारी को भरना होगा। यहां पर ऐसा नंबर या ईमेल आईडी डालें जिस पर आपको आसानी से ओटीपी मिल सके। अगर आपको कोई मदद की जरूरत हो तो रजिस्टर्ड योरसेल्फ के नीचे ही कस्टमर केयर का टैब मिलेगा।

अपने यूजर आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके ई-फाइलिंग पोर्टल में लॉग इन करें। या फिर अपने डैशबोर्ड पर click e-File > Income Tax Returns > File Income Tax Return पर क्लिक करें। आकलन वर्ष को 2022 – 23 के रूप में चुनें और जारी रखें पर क्लिक करें। ऑनलाइन के रूप में फाइलिंग का तरीका चुनें और आगे बढ़ें पर क्लिक करें। यह ध्यान रखें कि यदि आपने पहले ही आयकर रिटर्न भर दिया है और यह जमा करने के लिए लंबित है, तो फाइलिंग फिर से शुरू करें पर क्लिक करें। यदि आप सहेजे गए रिटर्न को discard करना चाहते हैं और नए सिरे से रिटर्न तैयार करना शुरू करते हैं, तो नई फाइलिंग शुरू करें पर क्लिक करें।

रजिस्ट्रेशन फॉर्म में सलेक्ट यूजर टाइप में इंडिविजुअल/ एचयूएफ के अलावा, कई दूसरे ऑप्शंस भी आएंगे। आप जिस यूजर कैटेगरी में आते हैं, उस पर क्लिक कर फॉर्म को भर लें। जब आप रजिस्टर कर देंगे, तो आपको एक ईमेल मिलेगा। इस ईमेल में एक लिंक दिया हुआ होगा। जब इस लिंक को खोलेंगे, तो यहां एक ओटीपी डालना होगा। यह ओटीपी आपके रजिस्ट्रेशन के दौरान दिए गए मोबाइल नंबर पर आएगा। यदि ओटीपी नहीं मिला हो तो इनकम टैक्स विभाग के कस्टमर केयर पर संपर्क करें। आपके मोबाइल पर वन-टाइम पासवर्ड और ईमेल के जरिए भेजे गए एक्टिवेशन लिंक पर क्लिक करके रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी होगी। आर अगर आप पहले ही रजिस्टर्ड हैं तो ‘रजिस्टर्ड यूजर’ पर जाएं।

यह भी पढ़ेंः SBI Profile Password Reset : इन आसान तरीकों से करें अपना एसबीआई प्रोफाइल पासवर्ड रीसेट

रजिस्ट्रेशन के बाद करें लॉगइन

रजिस्ट्रेशन के प्रक्रिया पूरी होने के बाद अब लॉगइन करें। आपका पैन नंबर आपका यूजरनेम होगा और पैन कार्ड पर दी गई जन्मतिथि आपका पासवर्ड होगा। इसके बाद नया पेज खुल जाएगा। यहां प्रिपेयर ऐंड सब्मिट ऑनलाइन आइटीआर (ऑनलाइन आइटीआर फाइल करने) के विकल्प को चुनाना होगा। इसके बाद फॉर्म में सलेक्ट करें कि आप किस साल का आईटीआर फाइल करने जा रहे हैं। नौकरी करने वाले लोगों को आईटीआर-1 फॉर्म सलेक्ट करना होता है। अपना बिजनेस करने वाले को आईटीआर-4 फॉर्म है। नए यूजर को न्यू एड्रेस (नया पता) सलेक्ट करके उसमें अपना पता डालना है।

आईटीआर फॉर्म पर भरने से पहले आपको फॉर्म की शुरुआत में दिए गए सभी ‘जनरल इंस्ट्रक्शन’ (सामान्य दिशा-निर्देश) पढ़ लेना चाहिए, ताकि क्या करना है और क्या नहीं करना, इसकी जानकारी हो सके। यह सुनिश्चित कर लें कि ऑनलाइन फॉर्म में दिखाया जा रहा देय टैक्स आपकी कैलकुलेशन (गणना) से मैच करे। फाइनल सबमिशन करने से पहले, जो भी डेटा भरा है उसे सेव कर लें और कोई गलती ना हो इसलिए दोबारा जांच लें। एक बार ‘प्रिव्यू और सबमिट’ बटन पर क्लिक करें, अब फाइनल सबमिशन से पहले आपके आईटीआर फॉर्म का प्रिव्यू खुलकर सामने आ जाएगा।

ITR कैसे करें अपलोड

एक बार ‘सबमिट’ बटन पर क्लिक करने पर, आपका आईटीआर अपलोड हो जाएगा और फिर आपसे किसी भी उपलब्ध विकल्प का इस्तेमाल कर आपसे रिटर्न को वेरिफाई करने को कहा जाएगा। यदि आपको अपनी रिटर्न में त्रुटियों की एक सूची दिखाई जाती है, तो आपको त्रुटियों को ठीक करने के लिए फॉर्म पर वापस जाना होगा। यदि कोई त्रुटि नहीं है, तो आप सत्यापन के लिए आगे बढ़ें और e-Verify कर सकते हैं। सत्यापन पूरा करने के लिए Verification page पर अपना पसंदीदा विकल्प चुनें और जारी रखें पर क्लिक करें। अपने रिटर्न और ई-वेरिफिकेशन को वेरिफाई करना अनिवार्य है।

यदि आप ई-वेरिफिकेशन का चयन करते हैं, तो आप अपना रिटर्न जमा कर सकते हैं। यदि किसी कारण ई-वेरिफिकेशन नहीं हो पता है, तो फिर अपना आईटीआर दाखिल करने के 120 दिनों के भीतर अपना रिटर्न सत्यापित करना होगा। ई-सत्यापन पेज पर उस विकल्प का चयन करें जिसके माध्यम से आप रिटर्न को ई-सत्यापित करना चाहते हैं और जारी रखें पर क्लिक करें।

यदि आप आईटीआर-वी के माध्यम से सत्यापन का चयन करते हैं, तो आपको अपने आईटीआर-वी की एक हस्ताक्षरित फिजिकल कॉपी Centralized Processing Center, Income Tax Department, Bengaluru 560500 को सामान्य पोस्ट द्वारा 120 दिनों के भीतर भेजनी होगी। एक बार जब आप अपनी आयकर रिटर्न फाइलिंग को ई-वेरिफाई कर देते हैं, तो ट्रांजैक्शन आईडी और Acknowledgement Number के साथ एक message प्राप्त होता है। आपको ई-फाइलिंग पोर्टल पर रजिस्टर अपने मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी पर एक confirmation message भी प्राप्त होगा।

ये भी पढ़ें:Credit Card UPI : गूगल पे, पेटीएम, फोनपे द्वारा Credit Card से करें पेमेंट, ये हैं तरीके