Inverter के लिए बैटरी चुनते वक्त भूलकर भी ना करें ये गलती, करा बैठेंगे बड़ा नुकसान

0
inverter battery
बेस्ट बैटरी चुनते वक्त रखें इन बातों का ध्यान

हमारी पिछली रिपोर्ट में हमने आपको बताया कि घर के लिए एक अच्छे इन्वर्टर का चुनाव कैसे करें। कैसे आप अपनी जरूरत के हिसाब से वॉट की गणना करके घर/ऑफिस के लिए बेस्ट इन्वर्टर चुन सकते हैं। आप यहां क्लिक करके वो रिपोर्ट पढ़ सकते हैं। लाइट जाने पर खाली एक इन्वर्टर ही आपके लिए काफी नहीं होता है। घर में उजाला करने के लिए आपको इन्वर्टर के साथ-साथ एक अच्छी बैटरी की भी जरूरत होती है। बैटरी का चुनाव करते वक्त भी कई सारी बातों का ध्यान रखना होता है। मार्केट में कई सारी बैटरी उपलब्ध हैं और सबकी कुछ खासियत और कमियां होती हैं।

हमारी इस खास रिपोर्ट में हम आपको अपने इन्वर्टर के हिसाब से बेस्ट बैटरी चुनने का तरीका बता रहे हैं। जैसा कि हमने अपनी पिछली रिपोर्ट में बताया कि आपके लिए केवल साइन वेव इन्वर्टर (Sine Wave Inverter) ही बेस्ट रहेगा। यहां हम आपको साइन वेव इन्वर्टर के हिसाब की अच्छी बैटरी चुनने का तरीका बता रहे हैं। इन्वर्टर के लिए एक अच्छी बैटरी चुनने के लिए सबसे अधिक जरूरी है बैटरी की क्षमता, आपको ये पता होना चाहिए कि आपको कितनी कैपेसिटी की बैटरी लेनी चाहिए कि लाइट जाने पर आपके घर मे अंधेरा न हो और वो जगमग करता रहे। इसके लिए आपको अपने उपभोग के कुल वॉट्स से पता करना होगा।

जैसे लाइट जाने के बाद हमें 300 वॉट का उपभोग करना है तो इसके लिए सबसे पहले आप ये समझिए कि आपको कितने घंटे के लिए बैकअप चाहिए। ये गणना आप पूरे दिन के हिसाब से कीजिए। ऐसे समझिए कि आपके घर पर लाइट कितनी बार जाती है और कितनी-कितनी देर के लिए जाती है। इसका पूरा एक अनुमान सेट कीजिए। मान लीजिए कि पूरे 24 घंटे में आपके घर पर कुल 3 घंटे के लिए लाइट जाती है और आपको इतना ही बैकअप चाहिए।

flat plate battery vs tubular battery
ऐसे चुनें इन्वर्टर के लिए बेस्ट बैटरी

अब आप अपने वॉट्स यानी 300 वॉट्स को 3 घंटे से गुणा कर लीजिए। ये टोटल हुआ 900, अब इसमें 12 का भाग दे दीजिए। ये आया 75 Ah (एंपीयर/आर)। आपको 75Ah पावर वाली बैटरी खरीदनी चाहिए। अगर मार्केट में 75Ah वाली बैटरी नहीं है तो आप इसके आसपास की बैटरी खरीद लें लेकिन याद रखें कि कम पावर वाली बैटरी न ही लें। हमने 12 का भाग इसलिए दिया क्योंकि 12 वोल्ट की बैटरी काफी ज्यादा इस्तेमाल की जाती हैं और एक घर या ऑफिस के लिए पर्याप्त भी होती हैं। वैसे मार्केट में 24 वोल्ट और 48 वोल्ट की बैटरियां भी आती हैं।

अब आपको बताते हैं कि बाजार में उपलब्ध बैटरियों में से अच्छी बैटरी कैसे पहचानें? मार्केट में फ्लैट प्लेट बैटरी/नॉर्मल (Flat Plate Batteries) और ट्यूबलर बैटरी (Tubular Batteries) ही ज्यादा चलती हैं। इन दोनों में से ट्यूबलर बैटरी ज्यादा अच्छी है। फ्लैट प्लेट बैटरी के साथ ये दिक्कत है कि ये एक तो देर में चार्ज होती है और साथ ही इसमें हीटिंग की समस्या आती है। इसके कारण इसकी लाइफ कम होती है। वहीं ट्यूबलर बैटरी में हीटिंग की समस्या न आने के कारण ये फ्लैट प्लेट की तुलना में ज्यादा लंबे वक्त तक चलती है और साथ ही ये थोड़ा फास्ट चार्ज भी होती है। इसलिए हमेशा ट्यूबलर बैटरी के साथ ही जाएं।

बिना जरूरत के न खरीदें 2 बैटरी
कई लोगों को लगता है कि इन्वर्टर के साथ 2 बैटरी खरीदने से वो कई सालों के लिए टेंशन फ्री हो जाते हैं। ऐसा नहीं है। अगर आप दो बैटरी खरीद रहे हैं तो उसके साथ इन्वर्टर भी 2 बैटरी के हिसाब का होना चाहिए। दरअसल बैटरी तब अच्छा काम करती है जब वो अच्छे से चार्ज और डिस्चार्ज हो। यानी कि जितना आप उसे चार्ज करें, उतना ही काम में भी लें। ऐसे ना हो कि आपकी बैटरी हमेशा ही फुल चार्ज रहे और कभी काम में ही ना आए। इससे आपकी बैटरी जल्दी खराब होती है। अब आपको जरूरत है 75Ah बैटरी की और आपने दो बैटरियां कुल 150Ah की लगवा लीं। दोनों बैटरियां बिना काम आए ही खराब हो जाएंगी।