क्रैश टेस्ट में ‘क्रैश’ हुई Kia Carens, मिली सिर्फ 3 स्टार सेफ्टी रेटिंग

Kia Carens को एडल्ट ऑक्यूपेंट सेफ्टी में कुल 17 अंकों में से 9.30 अंक हासिल किए और इसे इस श्रेणी में 3-स्टार सुरक्षा रेटिंग हासिल हुई है। वहीं चाइल्ड ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन के लिए इसने कुल 49 अंकों में से 30.99 अंक अर्जित किए, इस प्रकार इस श्रेणी में 3-स्टार रेटिंग प्राप्त की।

0
Kia Carens Global NCAP crash test safety rating

नई किआ कैरेंस (Kia Carens) को ग्लोबल एनसीएपी क्रैश टेस्ट (Global NCAP crash test) के लेटेस्ट राउंड में एडल्ट ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन के लिए 3-स्टार सेफ्टी रेटिंग और चाइल्ड ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन के लिए सिर्फ 3-स्टार रेटिंग मिली है। टेस्ट एजेंसी के अनुसार, मेड-इन-इंडिया किआ कैरेंस का परीक्षण इसके सबसे बेसिक सेफ्टी स्पेसिफिकेशन में किया गया था, जिसमें छह एयरबैग लगे थे। इसमें दो फ्रंट यूनिट, दो साइड बॉडी और दो साइड हेड प्रोटेक्शन एयरबैग शामिल थे।

इसके अलावा, इसके बेस वैरियंट में ईएससी एक स्टैंडर्ड फिटमेंट है। कैरेंस का साइड-इंपैक्ट टेस्ट भी किया गया, जिसने UN95 रेगुलरिटी जरूरतों को पूरा किया। इसने adult occupant सेफ्टी में कुल 17 अंकों में से 9.30 अंक हासिल किए और इसे इस श्रेणी में 3-स्टार सुरक्षा रेटिंग हासिल हुई है। वहीं चाइल्ड ऑक्यूपेंट प्रोटेक्शन के लिए इसने कुल 49 अंकों में से 30.99 अंक अर्जित किए, इस प्रकार इस श्रेणी में 3-स्टार रेटिंग प्राप्त की।

यह भी पढ़ेंः स्कूटरों के बाद अब इलेक्ट्रिक कार में लगी आग, Tata Nexon EV जलकर हुई खाक, देखें वीडियो…

Kia Carens

कितनी सुरक्षित है kia carens
नई किआ कैरेंस के बॉडीशेल को अस्थिर का दर्जा दिया गया है और यह आगे के भार को सहन करने में असमर्थ है। टेस्ट के दौरान यह एमपीवी चालक की छाती और पैरों की सुरक्षा के मामले में कमजोर साबित हुई। ग्लोबल एनसीएपी ने नोट किया कि मॉडल को अभी भी थ्री-पॉइंट सीट बेल्ट के बजाय रियर सेंट्रल सीटिंग पोजीशन में लैप बेल्ट के साथ बेचा जाता है।

ग्लोबल एनसीएपी के महासचिव एलेजांद्रो फुरस ने कहा कि कैरेंस में छह एयरबैग का फैसला स्वागत योग्य है। हालांकि हमें इस मॉडल से बेहतर परफॉर्मेंस की उम्मीद थी। यह चिंता का विषय है कि किआ जैसे वैश्विक कार ब्रांड, जो आमतौर पर अन्य बाजारों में 5-स्टार रेटिंग हासिल करते हैं, अभी भी भारत में इस स्तर तक नहीं पहुंच रही है। बता दें कि किआ कैरेंस ग्लोबल एनसीएपी के मौजूदा परीक्षण प्रोटोकॉल के तहत परीक्षण किया जाने वाला अंतिम प्रोडक्ट था। टुवर्ड्स जीरो फाउंडेशन के अध्यक्ष डेविड वार्ड ने कहा कि अगले महीने से लागू होने वाले नए प्रोटोकॉल को अगले स्तर तक ले जाने का इरादा है।
यह भी पढ़ेंः Doctor Strange to Westworld 4: जून का आखिरी सप्ताह भी होगा रोमांच से भरपूर, मजेदार सफर पर ले जाएंगी ये वेब सीरीज